जिला जज ने पुलिस कर्मियों को दी पोक्सो एक्ट के विभिन्न पहलुओं की जानकारी

  |   Uttarkashinews

ज्ञानसू स्थित पुलिस लाइन सभागार में सोमवार को जिला विधिक सेवा प्राधिकरण की ओर से साक्षरता शिविर का आयोजन किया गया, जिसमें प्राधिकरण के अध्यक्ष जिला जज सिकंद कुमार त्यागी ने पुलिस अधिकारियों व कर्मचारियों को प्रोटेक्शन ऑफ चिल्ड्रेन फ्रॉम सेक्सुअल ऑफेंसेस (पोक्सो) एक्ट के बारे में जानकारी दी।

जिला जज ने बताया कि 18 वर्ष से छोटे बच्चों को यौन अपराधों से बचाने के लिए पोक्सो एक्ट बनाया गया है। इसके अंतर्गत बच्चों का यौन उत्पीड़न करने, निजी अंगों के साथ छेड़छाड़ करने, अश्लील साहित्य व फिल्म दिखाने आदि अपराध करने वाले व्यक्ति को कठोर दंड का प्रावधान है। उन्होंने कहा कि पीड़ित बच्चे की पहचान किसी भी तरह से उजागर नहीं होनी चाहिए। साथ ही घटना के 24 घंटे के भीतर मामला बाल कल्याण समिति की निगरानी में लाना चाहिए। प्राधिकरण की सचिव दुर्गा शर्मा ने बाल अपराधियों के साथ की जाने वाली पुलिस कार्रवाई के बारे में जानकारी दी। एसपी पंकज भट्ट ने पुलिस कर्मियों को बाल अपराधों को रोकने के लिए जिम्मेदारी से कार्य करने के निर्देश दिए।

फोटो - http://v.duta.us/uI9JyAAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/cbQtzwAA

📲 Get Uttarkashi News on Whatsapp 💬