नाला उफनाने से चार घंटे फंसे रहे शिक्षक

  |   Lalitpurnews

नाला उफनाने से चार घंटे फंसे रहे शिक्षक

ललितपुर। सोमवार को जिले के विभिन्न ग्रामीण क्षेत्रों में नाले उफनाने से लोगों की आवाजाही प्रभावित हो गई। मैरतीकलां व बेसरा स्कूल गए शिक्षकों को चार घंटे नाला उतरने का इंतजार करना पड़ा, तब जाकर शिक्षक, शिक्षिकाएं अपने घर सकुशल पहुंच सके। वहीं, बच्चों को भी स्कूल आने-जाने में असुविधा का सामना करना पड़ा।

जनपद में कई दिनों से रुक-रुक कर बारिश हो रही है। सोमवार को सुबह नौ बजे से ही बारिश आरंभ हो गई थी। तीन घंटे तक हुई झमाझम बारिश में कई जगहों के नाले उफना गए हैं। जो शिक्षक सुबह के मौसम को साफ देखकर स्कूल चले गए थे, उन्हें स्कूल बंद होने तक बारिश का सामना करना पड़ा। इससे स्कूलों के परिसर पानी से लबालब हो गए। ब्लाक बिरधा के पूर्व माध्यमिक विद्यालय रीछपुरा के गेट नाला निकला है जो बारिश में उफना गया। इससे स्कूल बंद होने के समय बच्चे बाहर नहीं निकल सके। विद्यालय के प्रधानाध्यापक इंदर सिंह पटेल का कहना है कि मुख्य गेट पर नाले का पानी होने से बच्चों को चारदीवारी फांदकर बाहर निकाला गया। नाले पर पुलिया नहीं होने की सूचना कई बार संकुल व ब्लाक पर दे चुके हैं लेकिन अब तक कोई कार्रवाई नहीं हुई है। इस समस्या से ग्राम प्रधान भी भली प्रकार अवगत हैं। इसके बाद भी नाले पर पुलिया का निर्माण नहीं किया जा रहा है। उधर, बारिश के कारण ग्राम मैरतीकलां, पड़ोरिया व उत्तमधाना के नाले उफना गए। इससे मैरतीकलां व बेसरा स्कूलों के शिक्षक, शिक्षिकाओं को करीब चार घंटे तक नाले का पानी उतरने का इंतजार करना पड़ा। इससे शिक्षिकाओं के साथ बच्चों का बुरा हाल हो गया। वहीं, शिक्षक, शिक्षिकाओं के परिजनों में भी चिंता देखी गई। ललितपुर से एक वाहन मंगवाया गया, जिससे शिक्षक, शिक्षिकाएं घर पहुंचे। उफनाए नाले को देखने के लिए मौके पर ग्रामीणों की भीड़ जमा रही। शिक्षक बृजेश तिवारी का कहना है कि जब सुबह स्कूल के लिए निकले थे, तब मौसम सामान्य था लेकिन दोपहर होते-होते नाले उफनाए। इससे बेसरा व मैरतीकलां स्कूल के शिक्षक, शिक्षिकाओं को परेशान होना पड़ा।

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/ffCodQAA

📲 Get Lalitpur News on Whatsapp 💬