हाईकोर्ट का बड़ा फैसला: बाढ़ के जल स्तर से 300 मीटर तक नर्मदा की प्रॉपर्टी, सभी निर्माण अवैध- देखें वीडियो

  |   Jabalpurnews

जबलपुर। प्रदेश की जीवनदायिनी मां नर्मदा को बचाने और उसे संरक्षित करने के उद्देश्य से नर्मदा मिशन द्वारा लगाई गई जनहित याचिका पर मप्र हाईकोर्ट ने एक अहम फैसला सुनाया है। हाईकोर्ट ने 300 मीटर के दायरे को स्पष्ट करते हुए कहा कि नर्मदा उच्चतम जल स्तर या बाढ़ के जल स्तर के बाद का दायरा नर्मदा की प्रॉपर्टी है। इसमें किए गए निर्माण अवैध हैं। जो हो रहे हैं वे रोके जाएं। इस पर दो सप्ताह में मप्र शासन व जिला प्रशासन से रिपोर्ट देने के निर्देश भी दिए गए हैं।

5 जुलाई को जबलपुर के नर्मदा तटीय क्षेत्र तिलवारा में दयोदय ट्रस्ट के मंदिर निर्माण के खिलाफ नर्मदा मिशन की याचिका पर सुनवाई हाईकोर्ट ने कहा नदी जब बाढ़ के समय अपने उच्चतम जलस्तर के फैलाव पर होती है, उस स्थान से तीन सौ मीटर का दायरा नदी की अपनी प्रापर्टी है। दयोदय ट्रस्ट के मंदिर निर्माण को नर्मदा के 300 मीटर दायरे में मान गलत ठहराया है। जिसके बाद इसके निर्माण पर अब संकट के बादल छा गए हैं।...

फोटो - http://v.duta.us/dzsm6AAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/18kzYAAA

📲 Get Jabalpur News on Whatsapp 💬