बंद कमरे में सीमेंट कारखाने का समझौता नहीं कर सकते : मुकेश

  |   Shimlanews

नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री ने कहा कि सीमेंट कारखाने बंद कमरे में समझौता ज्ञापनों के माध्यम से नहीं किए जा सकते। इसके लिए अंतरराष्ट्रीय स्तर पर निविदाएं मंगवानी पड़ेंगी। केंद्र सरकार कानून में संशोधन कर चुकी है। इसमें खासतौर पर सीमेंट कारखानों के आवंटन के राज्य सरकारों के विशेषाधिकार समाप्त हैं। निवेश के नाम पर प्रदेश में बिल्डरों और प्रॉपर्टी डीलरों को न्योता देने के प्रयासों से राज्य को भारी नुकसान होगा।

मुकेश ने जारी बयान में कहा कि राज्य सरकारें चोर दरवाजे से सीमेंट कारखाने नहीं दे सकतीं। टेंडर आमंत्रित करना अनिवार्य है। अखबारों में छपा है कि डालमिया ग्रुप के साथ चंडीगढ़ में 2500 करोड़ के एमओयू पर हस्ताक्षर किए गए हैं। चंबा के सीमेंट कारखाने के लिए भी ग्लोबल टेंडर हुए हैं। किसी कंपनी ने रुचि नहीं दिखाई। यह कारखाना पहले जेपी के पास था, काम न करने के कारण रद्द हुआ।...

फोटो - http://v.duta.us/c-iiLAAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/UHdjqQAA

📲 Get Shimla News on Whatsapp 💬