आग में जलते रहे गांव और ग्रामवासी, सरकार की अनदेखी से स्वाहा हुए करोडों

  |   Udaipurnews

भुवनेश पण्ड्या

उदयपुर. कई सालों से आग में गांव झुलसते रहे तो सरकार को इसकी तपन तक महसूस नहीं हुई। यहां तक कि गांवों में पिछले पांच सालों में किसी ना किसी कारणवश भडक़ी इस अग्नि ने करीब 200 से अधिक लोगों को भी मौत के घाट उतार दिया, तो गांव वासियों के करोड़ों रुपए और उनके संगी पशु इस आग में जलकर स्वाहा हो गए। पिछले पांच वर्षों में प्रदेश के गांवों में लगी आग के कारण 38 करोड़ 25 लाख 99 हजार रुपए का नुकसान हुआ है। लेकिन सरकार व उसके नुमाइन्दों पर इसका बिलकुल असर नहीं हुआ। जहां शहर में गली-गली सुरक्षित रखने के लिए नगरीय निकाय अग्निशमन गाडिय़ां खरीदती हैं, वहीं गांव में भले ही सडक़े चौड़ी हो, हर घर तक अग्निशमन वाहन जा सकता है, लेकिन चंद गांवों को छोड़ अधिकांश ग्राम पंचायत इतनी संवेदनशील नहीं निकली कि अपने गांव और लोगों की सुरक्षा के लिए यह वाहन लाए। अग्नि में खाक हुए घर और लोग, राज्य के 9821 गांवों में से केवल 76 गांवों में अग्निशमन वाहन की व्यवस्था है।...

फोटो - http://v.duta.us/XUSlKQAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/3-NW5wAA

📲 Get Udaipur News on Whatsapp 💬