इस ' मछली ' की वजह से अरब देशों में नाम कमाएगा रावतभाटा...

  |   Kotanews

रावतभाटा. अरब देशों की खास पसंद व महंगे दामों पर बिकने वाली पाबदा मछली का उत्पादन बढ़ाने के लिए अब मत्स्य विभाग यहां अनुसंधान करेगा। उक्त मछली की देश में ही नहीं अरब देशों में भी अच्छी मांग है। यहां की मछली दिल्ली से दुबई, कुवैत सहित अन्य अरब देशों में जाती है। वहां के लोग इसे बहुत पसंद करते हैं। उत्पादन बढऩे से राजस्व में तो वृद्धि होगी। साथ ही अरब देशों में भी रावतभाटा का नाम होगा।

जानकारी के अनुसार मत्स्य विभाग मछली पकडऩे का साल में ठेका देता है। इससे विभाग को करोड़ों रुपए की आय होती है। सितम्बर से मछली पकडऩे पर छूट दी जाएगी। इसको लेकर एक सितम्बर से मार्च 2020 तक 2 करोड़ 60 लाख रुपए का ठेका दिया गया है। रावतभाटा डेम से भारतीय मेजर कार्प की कतला, म्रिगल, रुहू, कलोट मछली पकड़ी जाती है। ये मछलियां प्रतिदिन औसतन 25 क्विंटल पकड़ में आती हैं। इसकी बाजार कीमत 100 से 150 रुपए प्रति किलो है। वहीं केट फिश में लाची, संवल, सिंघाड़ व पाबदा मछली पकड़ी जाती है। ये मछलियां महंगी होती हैं।...

फोटो - http://v.duta.us/qmivBQAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/qrKGOgAA

📲 Get Kota News on Whatsapp 💬