डाक्टर कमीशन के लिए लिख रहे बाहरी दवाएं

  |   Ghazipurnews

गाजीपुर। कमीशनखारी के चलते अधिकतर चिकित्सक बाहरी दवाइयां लिख रहे हैं। कई चिकित्सक खुद अस्पताल की दवाओं को जैनरिक तथा कम असरदार बता कर गुमराह करते हैं। मरीजों का आरोप है कि डाक्टर कमीशन के चक्कर में ऐसा करते है। सरकारी पर्ची के अलावा एक और पर्ची बाहर की दवाओं के लिए लिखते है। इसकी वजह से सबसे ज्यादा परेशानी गरीब लोगों को हो रही है।

शहर समेत ग्रामीण क्षेत्रों में कुछ चिकित्सक तो सरकारी पर्ची की बजाय अलग से एक पर्ची पर बाहरी दवाएं लिखते हैं। दवाओं के साथ इंजेक्शन भी लिखा जा रहा है। मरीजों का कहना है कि यह इंजेक्शन काफी महंगें होते हैं। इस प्रकार की शिकायतें महिला मरीजों के साथ अधिक देखने के मिल रही है। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मुहम्मदाबाद में लगभग सभी चिकित्सक बाहरी दवाए लिख रहे हैं। शनिवार को इलाज के लिए आए विवेक शर्मा ने बताया कि वायरल फीवर तथा अन्य समस्याओं के लिए उन्होंने बाहर से करीब चार सौ रुपये की दवाएं ली है। महिला अस्पताल में गर्भवती, प्रसव और अन्य प्रकार के महिला मरीजों से साफ कहा जाता है कि अस्पताल की दवाई फायदा करेगी कि नहीं हम इस बात की गारंटी नहीं लेते। इसके बाद मरीज असमंजस में पड़ कर बाहरी दवांए लाने पर मजबूर हो जाते है। नंदगंज, गोड़ऊर, सैदपुर आदि क्षेत्रों में मरीजों के साथ आए दिन इस प्रकार की शिकायतें मिल रही है। जल्लापुर की सुनीता देवी ने कहा कि सात माह की उनकी गर्भवती बहू को चिकित्सकों ने एक सुई लगाने के साथ ही सात सौ की दवा लिखी है। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र गोड़ऊर पर इलाज कराने आए संजय यादव ने कहा कि पेट दर्द के इलाज के लिए उन्हें करीब तीन सौ की बाहरी दवा खरीदनी पड़ी। सुई अलग से लगाया गया है। सीएमओ डा. जीसी मौर्या ने कहा कि शिकायत की जांच कराएंगे। अगर किसी भी स्वास्थ्य केंद्र पर गड़बड़ी मिली तो संबंधित के विरुद्ध कार्रवाई होगी।...

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/A62QUwAA

📲 Get Ghazipur News on Whatsapp 💬