सड़कें बंद होने से आपदा प्रभावित गांवों में खाद्यान संकट

  |   Chamolinews

मूसलाधार बारिश के कारण देवाल क्षेत्र में चारों तरफ सन्नाटा पसरा है। लोग अपने घरों से बाहर नहीं निकल पा रहे हैं। क्षेत्र में घेस, हिमनी, खेता, सवाड़, तोरती, रामपुर, सौरीगाड़, मानमती सहित 15 गांवों के लोग सड़कों पर मलबा आने से पैदल आवाजाही कर रहे हैं। क्षेत्र में खाद्यान सहित आवश्यक वस्तुओं का संकट बना है। फल्दियागांव, घेस और हिमनी गांवों में बिजली की आपूर्ति सुचारु नहीं हो पाई है।

मूसलाधार बारिश से देवाल-घेस-हिमनी, देवाल-सवाड़, हाटकल्याड़ी-बेराधार, देवाल-खेता, लोहाजंग-बांक सड़कें आठ अगस्त से बंद हैं, जबकि बुराकोट में चट्टान खिसकने से लोहाजंग-वांण सड़क तीन दिनों से बंद है। पीएमजीएसवाई के ईई विनोद गगाड़ी ने कहा कि हाटकल्याड़ी-बेराधार सड़क पर भूस्खलन हो रहा है और देवाल-खेता सड़क पदमल्ला में भूस्खलन होने से रोड बंद है। सड़क के ऊपर मकान होने के कारण ग्रामीणों द्वारा कटिंग नही करने दी जा रही है। उन्होंने कहा, पुस्ता बनाने में लगभग 20 दिन का समय और लग सकता है। बलाड़, खेता, तोरती, मानमती, हरमल, चोटिंग, सौरीगाड़, नलधूरा, ओडर, लिंगड़ी आदि गांवों में सड़क और पैदल रास्ते क्षतिग्रस्त होने से सरकारी राशन तक नहीं जा पा रहा है। देवाल के सहायक खाद्यान निरीक्षक भगवती प्रसाद रतूड़ी ने कहा कि गांवों में सड़कें बंद हैं। हम खच्चरों से राशन पहुंचाने की कोशिश कर रह थे, लेकिन पैदल मार्ग भी क्षतिग्रस्त हैं। इसलिए राशन पहुंचाने में पेरशानी हो रही है।

फोटो - http://v.duta.us/BV2YgQAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/U8wWzQAA

📲 Get Chamoli News on Whatsapp 💬