सत्यापन में 1094 गांवों का ओडीएफ अमान्य, पंचायती राज विभाग में खलबली

  |   Ballianews

बलिया। जिले में ओडीएफ घोषित किए गए 1844 गांवों में से 1094 गांव मंडलीय सत्यापन में मानकों पर खरा नहीं पाए गए। ऐसे में मंडलीय सत्यापन में मानक के विपरीत मिले 1094 गांवों का ओडीएफ अमान्य कर दिया गया है। इससे जिले में स्वच्छ भारत मिशन अभियान की पोल खुल गई है। उधर, इसको लेकर पंचायती राज विभाग ने ओडीएफ को लेकर कवायद तेज कर दी है और सभी ब्लॉकों के एडीओ को पत्र जारी कर रिपोर्ट मांगी है।

जिले में करीब तीन दशक से अलग-अलग अभियान के तहत शौचालय निर्माण का काम पंचायती राज विभाग की ओर से कराया जा रहा है। वर्ष 2015-16 में स्वच्छ भारत मिशन लागू किया गया और इसके तहत सभी गांवों को ओडीएफ करने के लिए जिले के 1844 राजस्व गांवों में कुल तीन लाख 18 हजार 246 शौचालयों का आवंटन किया गया। पंचायती राज विभाग गांवों को ओडीएफ करने में जुटा रहा। जनपद के गांवों को तीन माह पहले ओडीएफ घोषित कर दिया गया लेकिन जमीनी हकीकत कुछ और ही है। पंचायती राज विभाग के अधिकारियों की मानें तो बेसलाइन सर्वे के आधार पर ही गांवों को ओडीएफ करने का काम किया गया।...

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/OWX9_wAA

📲 Get Ballia News on Whatsapp 💬