Video: बाढ़ से गिरे मकान, खाना बनाने भी नहीं बची जगह, पलंग पर चूल्हा रखकर बना रहे खाना

  |   Sagarnews

बीना. नदियों में बाढ़ आने के बाद कुछ ग्रामों में पानी भर गया था और अब जब बाढ़ का पानी कम होने के बाद वहां जो नुकसान बाढ़ से हुआ है दिखने लगा है। रामपुर पंचायत के चिकनोटा गांव में भी गुरुवार को बाढ़ का पानी पहुंच गया था, जिससे कच्चे मकान गिर गए और लोगों की गृहस्थी का सामान बह गया। इसके बाद भी शनिवार की दोपहर तक कोई भी अधिकारी ग्रामीणों की सुध लेने के लिए नहीं पहुंचा था।

गांव के तीन कच्चे मकान गिर गए और इन मकानों में रखा गृहस्थी का सामान भी बहकर नदी में चला गया। नंदकिशोर राय, रविन्द्र राय, सुजान राय, धन्नलाल राय, किशन राय के मकानों को क्षति पहुंची है। किशन ने बताया कि उनके करीब 45 के सिंचाई पाइप पानी के बहाव में बह गए और मकान की दीवारें गिर गई हैं। गृहस्थी का सामान में बहकर चला गया। खाने-पीने का सामान भी कुछ ही बचा पाए हैं। घरों में हालत यह है कि खाना बनाने के लिए भी जगह नहीं बची है और एक महिला को खाना बनाने जब जगह नहीं मिली तो लोहे के पलंग पर चूल्हा रखकर रोटी बनाई। चूल्हे में लगी लकड़ी गिली हो जाने के कारण बड़ी मेहनत के बाद रोटी बन पाई। गांव के नर्वदा पटेल की दो गाय, घर में रखा गेहूं सहित अन्य सामान बह गया। नन्हेलाल कुशवाहा के घर का सामान बह गया और कुआं भी धसक गया है, जिससे हजारों रुपए का नुकसान हुआ है। दशरथ दुबे का भूसा और पाइप में पानी में बह गया। ग्रामीणों का आरोप है कि दो दिन बीत जाने के बाद भी गांव में न तो पटवारी और न अन्य अधिकारी हालात जानने पहुंचे हैं, जिससे ग्रामीण परेशान हैं।...

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/834OpwAA

📲 Get Sagar News on Whatsapp 💬