डॉक्टर हैं नहीं, मरीज परेशान

  |   Gunanews

आरोन. एक तरफ सरकार आम जनता को सहज स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराने भवनों से लेकर संसाधनों पर करोड़ों रुपए खर्च कर रही है। लेकिन डॉक्टर व पैरामेडीकल स्टाफ की कमी के चलते लोगों को जरूरी स्वास्थ्य सुविधाएं नहीं मिल पा रही हैं। इसी तरह का ताजा उदाहरण जिले के आरोन सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र का सामने आया है। यहां पहले से ही डॉक्टर्स की कमी थी वहीं हाल ही में एक और डॉक्टर का स्थानांतरण कर दिया गया।

राघौगढ़ विधानसभा अंतर्गत आने वाली आरोन तहसील में इन दिनों स्वास्थ्य सुविधाएं बीमार पड़ गई हैं। क्योंकि शासन ने आरोन सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर पदस्थ डॉ केके श्रीवास्तव को यहां से स्थानांतरित कर राजगढ़ जिले में सीएमएचओ बना दिया है। अब ऐसे में आरोन अस्पताल में एक मात्र दंत चिकित्सक रवि कश्यप ही बचे हैं। जिन्हें सभी तरह के मरीजों का इलाज करना होगा। यहां बता दें कि आरोन अस्पताल को सिविल चिकित्सालय का दर्जा प्राप्त है लेकिन सुविधाएं प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र स्तर की हैं। अस्पताल में दंत चिकित्सक को छोड़कर एक भी विशेषज्ञ चिकित्सक नहीं हैे। सबसे बड़ी बात मेडिसन चिकित्सक का पद खाली पड़ा है। वहीं स्त्री एवं प्रसूति रोग विशेषज्ञ व हड्डी रोग विशेषज्ञ का पद तो पिछले काफी समय से भरा ही नहीं गया है। ऐसे में गंभीर मरीजों को इलाज कराने करीब 35 किमी दूर जिला मुख्यालय जाना पड़ रहा है। मरीजों को समय के साथ साथ आर्थिक परेशानी से जूझना पड़ रहा है।...

फोटो - http://v.duta.us/tYP3agAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/ZwFEoAAA

📲 Get Guna News on Whatsapp 💬