मॉब लिंचिंग करने वालों की अब खैर नहीं, लिंचिंग से संरक्षण विधेयक विधानसभा में हुआ पारित

  |   Rajasthannews

प्रदेश में मॉब लिंचिंग करने वालों की अब खैर नहीं है. विधानसभा में सोमवार बहस के बाद लिंचिंग से संरक्षण विधेयक पास कर दिया गया है. 2 व्यक्ति भी अगर किसी को मिलकर पीटते हैं तो उसे मॉब लिंचिंग माना जाएगा. मॉब लिचिंग करने पर अब आजीवन कारावास और 1 लाख से पांच लाख रुपए तक का जुर्माना लगेगा. मॉब लिंचिंग रोकने के लिए आईजी रैंक के अफसर को राज्य समन्वयक बनाया जाएगा. प्रत्येक जिले का एसपी लिचिंग रोकने के लिए जिला समन्वयक होगा.

उम्रकैद और पांच लाख तक का होगा जुर्माना

मॉब लिंचिंग में मौत होने पर अब दोषियों को आजीवन कठोर कारावास और एक से पांच लाख रुपए तक का जुर्माने का दंड मिलेगा. लिचिंग में पीड़ित को घायल करने वालों को सात साल तक की सजा और एक लाख रुपए तक के जुर्माने का प्रावधान विधेयक में किया है. लिचिंग में पीड़ित के गंभीर रूप से घायल होने पर 10 साल तक की कैद और 50 हजार से 3 लाख तक का जुर्माना होगा. लिचिंग में किसी भी रूप से सहायता करने वाले को भी वही सजा मिलेगी जो खुद लिचिंग करने पर है. मॉब लिंचिंग के मामलों की जांच इंस्पेक्टर स्तर या उससे ऊपर का पुलिस अफसर ही करेगा....

फोटो - http://v.duta.us/NadGwQAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/DKtFygAA

📲 Get rajasthannews on Whatsapp 💬