डोल ग्यारस और मोहर्रम के ताजिये एक ही दिन, पहले निकलेंगे डोल फिर ताजिये

  |   Ratlamnews

रतलाम। डोल ग्यारस और मोहर्रम इस वर्ष भी एक ही दिन आ गए है। शनिवार को चांद दिखने के साथ ही मोहर्रम माह से इस्लामिक नया साल शुरू हो गया है। रात में मध्य भारत के ताजिये की चौकी भी धुल गई। आने वाले दिनों में चौकी धुलाई के साथ ही मेहंदी, अलम के साथ ही 10 सितम्बर को मोहर्रम के तहत ताजिये उठाए जाएंगे। इधर डोल ग्यारस भी 10 सितम्बर को ही है। ऐसे में दोनो सम्प्रदायों के त्यौहार एक साथ पडऩे पर स्थानीय प्रशासन के सामने बड़ी चुनौती खड़ी हो गई। हालांकि यह पहला मौका नहीं है जब डोल ग्यारस और मोहर्रम एक साथ आए हो, गत वर्ष भी ये दोनो त्योहार एक साथ आए थे, लेकिन अमन पसंद जावरा शहर के लोगों ने दोनो ही त्यौहारों को शांति के साथ मनाया। 10 सितम्बर को डोल ग्यारस पर निकलने वाले झुलों के साथ ताजियों के चल समारोह को शांती पूर्वक सम्पन्न्न करवाने के लिए रविवार को शहर थाने पर दोनो सम्प्रदाय के आयोजकों की बैठक ली गई। जिसमें एएसपी राजेश पाटीदार, एसडीएम एमएल आर्य, सीएसपी अगम जैन, तहसीलदार नित्यानंद पाण्डेय तथा थाना प्रभारी ने दोनो सम्प्रदाय के प्रमुखों से चर्चा के बाद यह निर्णय लिया गया कि पहले डोल ग्यारस के झुले निकलेंगे, उसके बाद ताजिये अपने इमाम बाडों से निकलेंगे। एसडीएम आर्य ने बताया कि झुले और ताजियों का रूट एक दो दिन में देखने के बाद एक बार और दोनो समाजों के प्रमुखों से चर्चा की जाएगी, उसके बाद समय निर्धारित किया जाएगा।...

फोटो - http://v.duta.us/RWF8-AAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/8v7hQQAA

📲 Get Ratlam News on Whatsapp 💬