दंतेवाड़ा उपचुनाव में ग्रामीण और छोटे कार्यकर्ताओं के बीच क्यों है भय का माहौल, जानिए क्या है कारण

  |   Jagdalpurnews

जगदलपुर. दंतेवाड़ा में उपचुनाव होने हैं। एेसे में पुलिस ने यहां जनप्रतिनिधियों और बूथों की सुरक्षा में कहीं भी चूक नहीं करना चाहती। इसे देखते हुए ही पुलिस ने पूरा प्लान तैयार कर रखा है। लेकिन यह प्लान केवल बूथ और जनप्रतिनिधियों के लिए ही है। एेसे में चुनाव में गांव-गांव तक पहुंचकर पार्टी का झंडा उठाने वाले कार्यकर्ताओं और उनकी सभाओं में जाने वाले ग्रामीणों की सुरक्षा के लिए कोई ठोस खाका बस्तर पुलिस के पास नहीं है।

छोटे कार्यकर्ताओं के बीच भय का माहौल

गौरतलब है कि एेसे में जब चुनाव प्रचार के दौरान प्रत्याशी अंदरूनी इलाकों तक पहुंचता है तो उसके लिए आरओपी व सुरक्षा व्यवस्था पूरी रहती है। लेकिन जब उसी पार्टी का कार्यकर्ता चुनाव प्रचार के लिए इन इलाकों में पहुंचता है तो उसके लिए कोई सुरक्षा का प्रावधान नहीं है। वहीं इनकी सभाओं में पहुंचने वाले ग्रामीणों की वाापसी के बाद क्या होगा। इसका भी कोई प्लान नहीं है। माओवादी चुनाव का बाहिष्कार करते हैं, उनके आसान शिकार यह गांव के ग्रामीण और पार्टी के छोटे कार्यकर्ता होते हैं। गौरतलब है कि दंतेवाड़ा के पूर्व व दिवंगत नेता भीमा मंडावी की माओवादियों ने हत्या कर दी थी इसलिए उपचुनाव हो रहे हैं। जब विधायक को माओवादी निशाना बना रहे हैं तो छोटे कार्यकर्ताओं के बीच भय का माहौल है।...

फोटो - http://v.duta.us/B9B3OgAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/y9SZxQAA

📲 Get Jagdalpurnews on Whatsapp 💬