पत्रिका ने पर्यावरण के प्रति निभाई जिम्मेदारी, दर्शन करने आए श्रद्धालुओं को वितरित किए मिट्टी के गणपति

  |   Jodhpurnews

वीडियो : नंदकिशोर सारस्वत/जोधपुर. राजस्थान पत्रिका की ओर से अपने सामाजिक सरोकार के तहत सोमवार सुबह 11 बजे रातानाडा स्थित गणेश मंदिर में मंगलमूर्ति और बुद्धि के प्रदाता भगवान गणेश के जन्मोत्सव गणेश चतुर्थी के उपलक्ष्य में मंदिर आने वाले दर्शनार्थियों को पौधों के साथ इॅको फ्रेण्डली गणेश प्रतिमा का वितरण किया गया। राजस्थान पत्रिका के महाभियान अमृतमं जलम के तहत जलाशयों के संरक्षण और हरयाळो राजस्थान मुहिम से जुड़े कार्यक्रम में दीपकसिंह पंवार और माधव पर्यावरण प्रसार सोसायटी के अध्यक्ष सुभाष गहलोत विशेष अतिथि थे।

गणपति मूर्तियों के लिए यह है एनजीटी के दिशा निर्देश

प्रथम पूज्य भगवान गणेश के जन्मोत्सव पर मूर्ति स्थापना एवं विसर्जन के लिए राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण (एनजीटी) की ओर से पांच साल पहले जारी दिशा निर्देश में कहा गया था कि मूर्ति विसर्जन के दौरान सिंथेटिक मैटेरियल, कपड़ा, प्लास्टिक, फूल, केमिकल, रंग जलस्रोत में विसर्जित नहीं किए जा सकते। केन्द्रीय प्रदूषण नियंत्रण मंडल की ओर से राजस्थान राज्य प्रदूषण नियंत्रण मंडल को जारी मार्गदर्शन में कहा गया कि गणपति की मूर्तियां मिट्टी और प्राकृतिक सामग्री से ही निर्मित होनी चाहिए। मूर्तियों पर पेन्टिंग के लिए जल में घुलनशील और गैर विषाक्त रंग काम में लिया जाना चाहिए। जिला प्रशासन की ओर से चिह्नित स्थलों एवं पर्यावरण की दृष्टि से सुरक्षित जल स्रोत में ही गणपति मूर्ति विसर्जन किया जाना चाहिए।

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/yPt2dgAA

📲 Get Jodhpur News on Whatsapp 💬