प्रथम पुज्य क्यों है भगवान गणेश, जानें पूरी खबर

  |   Palinews

पाली। Ganesh Chaturthi 2019 special : आज गणेश चतुर्थी मनाई जा रही है। भगवान गणेश ने माता-पिता को देवता तुल्य मानने का ज्ञान दिया था। अपनी बुद्धि के चातुर्य से ही वे प्रथम पुज्य बने। भारतीय परंपरा में दुखों का निवारण करने वाले गणेश शिव व पार्वती [ Shiva and Parvati ] के पुत्र हैं। भगवान गणेश [ Lord Ganesha ] को बुद्धि के साथ रिद्धि-सिद्धि [ Riddhi-Siddhi ] का दाता भी माना जाता है। उनका मुख हाथी का और पेट बड़ा है। जो यह सीख देते हैं कि मनुष्य को सदैव मस्तिष्क से बड़ा विचार करते हुए छोटी बातों पर नाराज नहीं होना चाहिए। बड़े उतदर का अर्थ है किसी व्यक्ति ओर से दूसरे की बुराई करने पर उसे आगे बढ़ाने के बजाय अपने तक ही सीमित रख लेना। मुषक की सवारी किसी जीव को छोटा समझकर उसका तिरस्कार नहीं करने का ज्ञान देता है। इस तरह गणेश प्रथम पुज्य होने के साथ एक गुरु भी कहे जा सकते है।...

फोटो - http://v.duta.us/wKJIKAAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/qnRlLgAA

📲 Get Pali News on Whatsapp 💬