बचपन में ही निभाया था साथ देने का वादा, अब 27 साल से संजोए रखी है पत्नी की अस्थियां

  |   Biharnews

आज तीज है और यह त्यौहार होता है पत्नियों द्वारा पति के प्रेम को लेकर धार्मिक परम्परा निभाने का. तीज के इस मौैके पर हम आज बता रहे हैं पति के पत्नी प्रेम की ऐसी कहानी जिसे सुनकर आप भी हैरान हो जाएंगे. इस कहानी के नायक पति हैं जिनकी पत्नी के गुजरे सालों हो गए हैं लेकिन वो अपनी पत्नी से इस कदर प्यार करते हैं कि उनकी अस्थियों को अभी तक संजोए हुए है. इस बुजुर्ग का कहना है कि जब वो दुनिया से विदा होंगे तभी ये स्मृति भी विदा होगी.

पेड़ की टहनी पर टंगी हैं अस्थियां

पच्चासी साल से ज्यादा उम्र के भोलानाथ आलोक की पत्नी के स्वर्गवास हुए सालों बीत गए हैं लेकिन पूर्णिया के बुजुर्ग भोलानाथ आलोक अपनी पत्नी की अस्थियों को अपने घर के बगीचे में 27 सालों सुरक्षित रखे हुए हैं. पेड़ की टहनी से टंगी ये पोटली भोलानाथ जी की स्वर्गीय पत्नी की है जिन्हें वे किस तरह से प्रेम करते थे उसका प्रमाण है और साथ ही यह प्रमाण समाज के अन्य पत्नियों के प्रेम को भी एक आईना और एक राह दिखाने के लिए नजीर है....

फोटो - http://v.duta.us/zly_7QAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/gPx76wAA

📲 Get Bihar News on Whatsapp 💬