सीएम हेल्पलाइन के चक्कर में ‘बाबू’ बन गए डॉक्टर

  |   Indorenews

इंदौर. एमवाय अस्पताल में जननी सुरक्षा योजना के लंबित मामलों की संख्या 12 हजार पहुंच गई है। सीएम हेल्पलाइन में लगातार शिकायतें पहुंचने और उनका निराकरण नहीं होने पर कॉलेज डीन ने गत दिनों महिला रोग व प्रसूति विभाग के एचओडी को नोटिस जारी किया। इसके बाद डॉक्टरों को इलाज की बजाए बाबूगीरी का काम सौंप दिया गया। रोजाना 4 से 5 डॉक्टर इस काम में जुटे हैं और इस दौरान मरीज व उनके परिजन परेशान होते रहते हैं।

एमवाय अस्पताल के गायनिक विभाग में रोजाना 40 से 50 डिलेवरी होती हैं। 240 बेड के मुकाबले दो गुना मरीज भर्ती रहते हैं। इसके अलावा एमटीएच अस्पताल में भी डॉक्टरों की ड्यूटी रहती है। विभाग के पास 50 से ज्यादा डॉक्टर हैं, इनके अलावा जूनियर डॉक्टर भी सेवाएं देते हैं। विभाग से महिला मरीजों का रिकार्ड अधीक्षक कार्यालय भेजा जाता था, जहां डाटा ऑपरेटर योजना के तहत इंट्री कर संबंधित विभाग को जानकारी देता था। सारी प्रक्रिया के बाद ऑनलाइन खाते में पैसा ट्रांसफर होता है।...

फोटो - http://v.duta.us/UDC4lQAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/hSM3owAA

📲 Get Indore News on Whatsapp 💬