25 साल से पीली मिट्टी को दे रहे गणपति का स्वरूप, रिश्तेदारों को भी देते हैं प्रतिमाएं

  |   Indorenews

इंदौर. सुखदेव नगर निवासी सराफा व्यापारी दिनेश वर्मा अपनी कॉलोनी में बाला वर्मा नाम से भी मशहूर हैं।?वे 25 साल से पीली मिट्टी के गणपित बना रहे हैं। 63 वर्षीय वर्मा पहले केवल अपने घर के लिए मिट्टी की प्रतिमा बनाते थे। उस वक्त प्रतिमाओं से होने वाले जल प्रदूषण के प्रति जागरूकता इतनी नहीं थी, लेकिन पिछले 10-15 साल पहले जब इस बारे में अखबारों में पढ़ा तो उन्होंने अपने इस शौक को और संवारा और ज्यादा प्रतिमाएं बनाकर रिश्तेदारों, दोस्तों, परिचितों को देने लगे। उनके लिए प्रतिमाएं बनाना व्यापार नहीं है, बल्कि एक शौक है।

वर्मा ने पत्रिका से बातचीत में बताया, प्रतिमा बनाना उन्होंने किसी से सीखा नहीं है। बोले- मेरे पिता सावन के महीने में मिट्टी से शिवलिंग बनाया करते थे। उन्हें देखकर मैं भी बनाने लगा और अपने आप ही सीखता चला गया। अब हर साल करीब 100 से 150 प्रतिमाएं बनाता हूं।?वे जनवरी या फरवरी से प्रतिमाएं बनाना शुरू करते हैं। दो इंच से दो फीट तक के श्रीगणेश बनाने वाले वर्मा कहते हैं, मूर्ति बनाने का काम पूरी तरह मूड पर निर्भर होता है। जब मूड अच्छा होता है, मन होता है, तभी बनाता हूं अन्यथा नहीं। मन हुआ तो रात के १२ बजे भी प्रतिमा बनाने लग जाता हूं। अब तो पूरी कॉलोनी के लोग उनसे प्रतिमा ले जाते हैं। वर्मा खुश हैं कि पर्यावरण को बचाने में छोटा सा ही सही पर उनका भी योगदान है। वे और लोगों को भी मिट्टी के गणपति बनाने के लिए प्रेरित भी करते रहते हैं।...

फोटो - http://v.duta.us/ag49hAAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/csPc1gAA

📲 Get Indore News on Whatsapp 💬