आयुष्मान योजनाः निजी अस्पतालों में 352 मरीजों को मिला उपचार

  |   Mahendragarh-Narnaulnews

स्वास्थ्य विभाग के प्रचार प्रसार के बावजूद गोल्डन कार्ड बनाने का काम धीमा चल रहा है। अभी भी लोग पीएम के पत्र को ही गोल्डन कार्ड समझ कर बैठे हुए हैं। दूसरी ओर आयुष्मान योजना के तहत निजी अस्पतालों में 352 मरीजों का उपचार हो चुका है।

गरीबों को निशुल्क इलाज देने के लिए प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना शुरू की गई है। जिससे की गरीबों को पैनल में शामिल निजी अस्पतालों बेहतर चिकित्सा सुविधा मिल सके। इस योजना में साल 2011 में हुए सामाजिक आर्थिक आंकड़े को आधार मानकर 45, 800 परिवारों को शामिल किया गया है। इसमें से 42,000 लोगों के गोल्डन कार्ड बन चुके हैं। लेकिन, अभी भी करीब 70 फीसदी लोगों ने गोल्डन कार्ड नहीं बनवाया है। ऐसे में अभी भी विभाग के सामने सबसे बड़ा लक्ष्य सभी का गोल्डन कार्ड बनवाना है। इसके लिए विभाग ने जागरुकता पखवाड़ा मना रहा है ताकि गोल्डन कार्ड बनवाने के लिए लोगों को प्रेरित किया जा सके। इसके बावजूद आशा के अनुसार परिणाम सामने नहीं आ रहा है। दूसरी ओर देखा जाय तो इस सेवा का लाभ 700 मरीज ले चुके हैं। इसमें निजी अस्पतालों में 352 मरीजों का उपचार हुआ। इसमें कृष्णा आई अस्पताल में 39, सिंघल अस्पताल में 13, इमराज ईएनटी 94, गंगादेवी पांडे आई अस्पताल में 38 व कृष्णा आई अस्पताल में 19 मरीजों के अलावा अन्य पैनल के अस्पतालों में मरीजों का उपचार हुआ।...

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/WpiGjwAA

📲 Get Mahendragarh Narnaul News on Whatsapp 💬