आरती बोली- मैं गर्भवती हूं, सोनोग्राफी में कुछ नहीं निकला, पुलिस धक्के मारकर ले गई थाने

  |   Indorenews

लखन शर्मा, इंदौर। हनी ट्रेप मामले में निगम इंजीनियर को ब्लेकमेल कर गिरफ्तार होकर पुलिस रिमांड पर होने के बावजूद आरोपित महिलाएं पुलिस को गुमराह कर रही है। कल भी दोनों महिलाओं ने पुलिस रिमांड २७ सितंबर तक बढ़ जाने की सूचना मिलते ही नाटक शुरू कर दिए। आरती ने खुद को दो माह का गर्भ बताया और बेहोश हो गई। डॉक्टरों ने जांच की तो कुछ नहीं निकला। पुलिस इन्हें गोदी में उठाकर एमवाय लाई थी लेकिन जब पता चला नाटक कर रही है तो दोनों को धक्के मारकर अस्पताल से ले गई।

दरअसल आरोपित आरती दयाल ने पुलिस को गुमराह करने के लिए नया हथकंडा अपनाया और खुद को दो माह का गर्भ होना बताया। इसी वजह से बेहोश् हो गई और फिर एमवाय अस्पताल में भर्ती होने के लिए पुलिस पर दबाव बनाने लगी। इसके बाद एमवाय अधीक्षक डॉ. पीएस ठाकुर पहुंचे और उन्होंने सीनियर स्त्री रोग विशेषज्ञ को बुलाकर पुरी जांच कराई। जांच में पहले आरती की सोनोग्राफी कराई, उसमें कुछ नहीं निकला। वह फिर गर्भवती होने का नाटक करने लगी। डॉक्टरों से बोली मुझे दो माह का गर्भ है। इसके बाद डॉक्टरों ने उसकी यूरिन जांच करवाई वह भी नेगेटिव आई। इसी के बाद पुलिस के अधिकारियों को बताया की दोनों नाटक कर रही हैं, सभी जांचे नार्मल आई है। इसके बाद डॉक्टरों ने डिस्चार्ज कर दिया तो भी अस्पताल से जाने में नाटक करने लगी। इसके बाद मौजुद पुलिसकर्मियों को गुस्सा आया तो जो आते समय आरती और मोनिका को गोद में उठाकर लाए थे वे ले जाते समय धक्के मारकर ले गए।...

फोटो - http://v.duta.us/YvRewwAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/bTx42AAA

📲 Get Indore News on Whatsapp 💬