इस अनूठी तिथि पर पितर होंगे तृप्त, घाटों पर लगेगा मेला

  |   Jabalpurnews

जबलपुर. पितृ पक्ष में लोग नियमित रूप से नर्मदा तटों पर तर्पण एवं श्राद्ध कर्म कर रहे हैं। पितृ पक्ष में पितरों के तर्पण के लिए विशेष व्यवस्थाएं बनाई गई हैं। पितरों को तिथि के अनुसार तर्पण कर श्राद्ध कर्म किया जाता है। भूले बिसरे पितरों के लिए पितृ मोक्ष अमावस्या को पिंडदान किया जाता है। जबकि, मातृ नवमीं को मातृ पितरों को तर्पण एवं श्राद्ध कर्म के लिए निर्धारित किया गया है। मातृ नवमीं को नर्मदा तटों पर बड़ी संख्या में श्रद्धालु उमड़े। ज्योतिर्विद जनार्दन शुक्ला के अनुसार मातृ नवमीं के दिन तर्पण करने से मात़ृ ऋण से मुक्ति मिलती है। मातृ नवमीं तिथि में तीर्थ स्थलों में पिंडदान करने वालों की संख्या अधिक रहती है। पितृ पक्ष में इस दिन महिला वस्त्रों का दान, असहायों को भोजन एवं उनकी मदद से पितर प्रसन्न होते हैं। पितृ मोक्ष अमावस्या तिथि 28 सितंबर को सभी पितरों को तर्पण किया जाएगा। पितृ पक्ष में पितरों को संतृप्त करने के लिए संस्कारधानी में कई स्थानों पर श्रीमद्भागवत कथा का आयोजन किया जा रहा है।...

फोटो - http://v.duta.us/qyWm_QAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/XWcuMgAA

📲 Get Jabalpur News on Whatsapp 💬