कुरजां की हमशक्ल का इस वर्ष पुन: इंतजार,जैसलमेर में बहुतायत रहता है प्रवास

  |   Jaisalmernews

जैसलमेर/पोकरण. मध्य एशिया से भारत और विशेष रूप से राजस्थान के जैसलमेर व जोधपुर जिले में प्रवास करने वाले कुरजां पक्षी के साथ अब उसकी हमशक्ल कॉमन क्रेन भी यहां आने लगी है। गत वर्ष हुई कॉमन क्रेन की आवक ने पर्यावरणप्रेमियों को अपनी तरफ आकर्षित होने को मजबूर किया। इस वर्ष सितम्बर माह के दूसरे पखवाड़े में कुरजां की आवक शुरू हुई। ऐसे में पर्यावरणप्रेमी इस वर्ष पुन: कॉमन क्रेन के आने का इंतजार कर रहे है। गौरतलब है कि विदेशी पक्षी साइबेरियन सारस कुरजां (डेमोइसिलक्रेन) प्रतिवर्ष अगस्त माह के अंत अथवा सितम्बर माह के पहले सप्ताह में भारत की तरफ प्रवास करती है। इनका प्रवास छह माह का होता है तथा फरवरी व मार्च माह में पुन: यहां से रवाना होती है। विशेष रूप से मध्य एशिया के कजाकिस्तान, मंगोलिया, साइबेरिया, रसिया से बड़ी संख्या में कुरजां यहां आती है।...

फोटो - http://v.duta.us/NG9AxQAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/dnuYbgAA

📲 Get Jaisalmer News on Whatsapp 💬