खून की कमी से स्वास्थ्य केंद्र में बेटी का जन्म होते ही हालत बिगड़ी, मौत

  |   Chhatarpurnews

छतरपुर. पहले ही खून की कमी से जूझ रही गर्भवती महिला की प्रसव के दौरान ज्यादा रक्तस्राव होने से मौत हो गई। जबकि बच्ची स्वस्थ है। इस घटना से परिवार में मातम फैल गया। डॉक्टरों ने माना कि ब्लीडिंग मोत की वजह बनी।

जानकारी के अनुसार राजनगर थाना क्षेत्र के किशनपुरा गांव की रहने वाली गर्भवती भागवती पाल को प्रसव पीड़ा होने पर राजनगर अस्पताल लाया गया । जहां उसने एक स्वस्थ बच्च्ची को जन्म दिया, लेकिन बच्ची के जन्म के बाद ही प्रसूता की हालत बिगडऩे लगी जिस पर उसे जिसे जिला अस्पताल के लिए रेफर किया गया। लेकिन जिला अस्पताल पहुंचने में देर हो गई, इलाज के दौरान ही उसने दम तोड़ दिया। वह मां जिसने अपनी कोख में उसे 9 महीने पाला और जन्म देते ही मासूम बेटी को दुनिया में अकेला छोड़कर चली गई। जननी की मौत के बाद से परिजनों का रो-रो कर बुरा हाल है। महिला के पति नारायण पाल और महिला की भाभी रमा देवी का आरोप है कि अस्पताल में असुरक्षित प्रसव के कारण ब्लीडिंग हो रही थी, जिसके चलते मौत हुई है। उन्होंने ये भी आरोप लगाया कि, सरकार की किसी भी योजना के तहत गर्भावस्था के दौरान भागवती को कोई सुविधा...

फोटो - http://v.duta.us/1AzIuQAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/_lob2gAA

📲 Get Chhatarpur News on Whatsapp 💬