जीते जी पुण्य कमाया, मरने पर भी याद रखोगे

  |   Nainitalnews

विकास यादव

हल्द्वानी। ‘मंजिल तो तेरी यहीं थी, इतनी देर लगा दी आते-आते, क्या मिला तुझे जिंदगी से, अपनों ने ही जला दिया जाते-जाते।’ श्मशान घाट के बाहर यह वाक्य लिखा मिल जाता है। लेकिन अपने शहर के कुछ ऐसे दानवीर भी हैं जिन्होंने अपने जीते जी अपना शरीर ही दूसरों के लिए दान कर दिया। इनमें 11 ऐसे लोग हैं जो मरणोपरांत देह दान कर चुके हैं जबकि 171 लोग ऐसी घोषणा कर चुके हैं।

मेडिकल कॉलेज हल्द्वानी में 2010 से देहदान की सुविधा शुरू हुई थी। मेडिकल कॉलेज को मिलने वाली देह का जूनियर, पीजी और रिसर्च छात्र पूरा आदर सम्मान करते हैं। यह देह उनके लिए शिक्षक के समान होता है। उन्हें शपथ दिलाई जाती है कि वह इस देह के ऋणी रहेंगे। छात्र अपने इस शिक्षक की ओर पीठ करके नहीं खड़े हो सकते।...

फोटो - http://v.duta.us/dcYn_QAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/JC1CywEA

📲 Get Nainital News on Whatsapp 💬