जमीन नाम हुई नहीं वन विभाग ने खर्च कर दिए चार करोड़

  |   Azamgarhnews

आजमगढ़। सपा शासन में बूढ़नपुर तहसील के गौरा हरदो में ईको पार्क के निर्माण के लिए लगभग चार करोड़ रुपये भी जारी किए गए थे। साथ ही इस जमीन को वन विभाग को सौंप दिया गया। वन विभाग ने 30 एकड़ एरिया में जमीन की बाउंड्रीवाल कराकर गेट तो लगवा दिया लेकिन संबंधित जमीन की अमलदरामद वन विभाग के नाम से नहीं कराया जा सका।

अतरौलिया विकास खंड के बाबा बहिरा देव स्थान पर समाजवादी पार्टी की सरकार में इको पार्क के नाम पर कार्य शुरू किया गया था। इसके लिए तत्कालीन सपा सरकार की ओर से लगभग चार करोड़ रुपये जारी कर वन विभाग को पार्क का निर्माण करने का निर्देश दिया गया लेकिन मंदिर के महंत प्रेमदास और स्थानीय नागरिकों ने यह कहकर विरोध करना शुरू कर दिया कि इस पार्क का निर्माण सपा मुखिया मुलायम सिंह के नाम ट्रस्ट बनाकर इस पर कब्जा करने का प्रयास किया जा रहा है। महंत प्रेमदास के बुलावे पर क्षेत्र के प्रसिद्ध संत बाबा राम लाल दास उर्फ मौनी बाबा भी अनशन पर बैठ गए। उनके इस अनशन के कारण प्रशासन को झुकना पड़ा अंतत: पार्क का निर्माण रुक गया। वन विभाग ने वन विहार पार्क के नाम से मंदिर परिसर के चारों तरफ बाउंड्री वाल, गेट और गार्ड रूम का निर्माण कराया जो कार्य लगभग पूर्ण हो चुका है। 10 प्रतिशत कार्य ही शेष है जो लगातार चल रहा है। इस संबंध में निर्माण निगम के जेई सूर्यप्रकाश सिंह ने बताया कि वन विभाग द्वारा बाउंड्री वाल चार गेट तथा गार्ड रूम स्वीकृत है जिसका कार्य लगभग 90 प्रतिशत पूर्ण हो चुका है। शेष कार्य महीने के अंदर पूर्ण कर लिया जाएगा। सबसे बड़ी बात यह है कि इस ईको पार्क के लिए जमीन आरक्षित की गई लेकिन उसे अभिलेखों में दर्ज नहीं कराया गया है। इसका परिणाम है कि वन विभाग आज भी उक्त जमीन की अमल दरामद वन विभाग के नाम कराने के लिए अधिकारियों के यहां गुहार लगा रहा है। वहीं प्रदेश में सत्ता परिवर्तन होने के बाद इस पार्क के निर्माण के लिए फिर धन नहीं आया।...

फोटो - http://v.duta.us/qmeGvwAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/YCPltgAA

📲 Get Azamgarh News on Whatsapp 💬