जरा सोचिए...प्रभु की शरण में सुख नहीं मिलता तो क्या कोई करता सुमिरन

  |   Sikarnews

सीकर. आर्यिका विभाश्री माताजी ने रविवार को मंगल प्रवचन में कहा कि संसार में दुख नहीं होता तो कोई भगवान को याद नही करता और भगवान की शरण सुख नही मिलता तो कोई भगवान का सुमिरन नही करता। उन्होंने कहा कि परिवर्तन ही संसार है। इसकी वास्तविकता का चिंतन और जगत के स्वभाव के चिंतन से ही सम्यक भाव उत्पन्न होते है। जैसे पानी सीप के अंदर जाकर मोती ,घास गाय के ग्रहण करने पर दूध का रुप लेता है, वैसे ही गुरु की वाणी अंतर्मन में ग्रहण करने से हृदय के भाव बदल जाते हैं। अजित जयपुरिया व राजकुमार मोदी ने बताया कि प्रवचनों से पहले सभी मांगलिक कार्य सुमतिप्रकाश, विमल कुमार, रोहित कुमार व अमित कुमार मोदी परिवार ने किए। इधर, श्री महावीर स्वामी दिगम्बर जैन मंदिर का वार्षिक मेला पांडुक शिला उद्यान में हर्षोल्लाष से आयोजित हुआ। विवेक पाटोदी ने बताया कि आर्यिका विभाश्री माताजी के सानिध्य में पहले महावीर स्वामी मंदिर तक शोभायात्रा निकाली गई। यहां रथयात्रा का शुभारंभ हुआ। इसके बाद पांडुक शिला उद्यान में भगवान के कलशाभिषेक सहित विभिन्न धार्मिक आयोजन हुए। इससे पहले श्री आदिनाथ चैत्यालय, खेत वाले मंदिर में क्षमावाणी के कलशाभिषेक हुए। जहां शांतिधारा का सौभाग्य हरकचंद,सुभाष कुमार व राकेश कुमार मोदी परिवार को मिला।...

फोटो - http://v.duta.us/iPxqOQAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/D04eUgAA

📲 Get Sikar News on Whatsapp 💬