देश की आजादी में अहम भूमिका निभाने वाले गांव में रोजगार नहीं, पलायन की मार झेल रहा हर परिवार

  |   Gumlanews

दुर्जय पासवान, गुमला

गुमला जिला के घोर नक्सल प्रभावित रायडीह प्रखंड के परसा पंचायत में महुआटोली गांव है. देश की आजादी में इस गांव की भूमिका अहम रही है. क्योंकि इस गांव में रहने वाले टाना भगतों ने अंग्रेजों के जुल्मों सितम के खिलाफ आवाज बुलंद की थी. परंतु आज यह गांव किस्सा व कहानियों तक सीमित रह गया है. बदलते समय के साथ गांव का विकास हो रहा है. परंतु जो सुविधा व लाभ मिलनी चाहिए. वह लाभ इस क्षेत्र के लोगों को नहीं मिल पा रही है.

गांव की स्थिति पर बात करें तो यहां सभी जाति व धर्म के 96 परिवार हैं. लेकिन गांव में कोई काम नहीं है. इस कारण हर एक परिवार से एक व दो सदस्य काम की तलाश में हिमाचल व गोवा पलायन कर गये हैं. हालांकि यह पलायन मौसमी है. गांव में पीने के पानी की व्यवस्था नहीं है. चापानल नहीं बना है. फिलहाल में सोलर वाटर सिस्टम का निर्माण किया गया है. लेकिन नल से पानी नहीं मिल रहा है. कारण सोलर वाटर सिस्टम बनाने वाले लोग इसका चाभी लेकर चले गये हैं. मजबूरी में लोग कुआं व डाड़ी का पानी पीते हैं....

फोटो - http://v.duta.us/OKqn7QAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/ZQbZqQAA

📲 Get Gumla News on Whatsapp 💬