पंडालों के रूप में दिखेंगे मंदिर और गुफा

  |   Ghazipurnews

गाजीपुर। शहर के साथ ही विभिन्न ग्रामीण क्षेत्रों में दुर्गा पूजा की तैयारी शुरु हो गई है। देवी दुर्गा की प्रतिमा को स्थापित करने के लिए पंडाल बनाने का कार्य शुरु कर दिया गया है। कई पूजा समितियों द्वारा जहां खुद पंडाल का निर्माण कार्य किया जा रहा है। वहीं कई समितियों द्वारा कोलकाता सहित अन्य जिलों के कारीगरों से निर्माण कार्य कराया जा रहा है। इस बार शहर के साथ ही कई ग्रामीण क्षेत्रों में पंडाल के रूप में प्रसिद्ध मंदिरों के साथ ही गुफा वाला पंडाल दिखाई देगा।

दशहरा के मौके पर शहर के साथ ही ग्रामीण क्षेत्रों में लगभग 391 स्थानों पर छोटे-बड़े पंडालों में मां दुर्गा की प्रतिमा स्थापित की जाती है। कई पंडालों में जहां नवरात्र के पहले दिन ही प्रतिमा स्थापित कर दर्शन-पूजन का कार्य शुरू कर दिया जाता है, वहीं अधिकांश पंडालों में सप्तमी के दिन विधिवत हवन-पूजन के बाद पूजा प्रारंभ होती है। पूजा समितियों द्वारा पंडाल का निर्माण कार्य प्रारंभ कर दिया गया है। जैसे-जैसे समय नजदीक आता जा रहा है। वैसे-वैसे कार्य की रफ्तार में भी तेजी आती जा रही है। कई पूजा समिति के लोग जहां खुद पंडाल निर्माण कार्य में लगे हुए हैं। वहीं कई समिति के लोग कोलकाता, वाराणसी आदि जिलों से कारीगर बुलाकर निर्माण कार्य करा रहे हैं। शहर के मिश्रबाजार, लालदरवाजा, रायगंज, चीतनाथ, टेढ़ीबाजार, नवाबगंज, महुआबाग, सकलेनाबाद, सिटी स्टेशन सहित अन्य कई मुहल्लों में पंडाल बनाया जा रहा है। नवयुवक दुर्गा पूजा समिति चीतनाथ के गजानंद पटवा ने बताया कि इस बार देवी मां गोदावरी गुफा माडल पंडाल में स्थापित होंगी। पंडाल निर्माण में ढाई से तीन लाख का खर्च आ रहा है। बाल दुर्गा पूजा समिति नवाबगंज के अध्यक्ष प्रदीप गुप्ता ने बताया कि इस बार दिल्ली और राजस्थान के बीच पड़ने वाले लक्ष्मी मंदिर के माडल का पंडाल बनाया जा रहा है, जिसमें करीब दो लाख खर्च हो रहा है। संयुक्त दुर्गा पूजा समिति मुगलपुरा के अध्यक्ष अनिल अग्रवाल ने बताया कि इस बार मंदिर के माडल में पंडाल बनवाया जा रहा है। इसमें करीब साढ़े तीन लाख का खर्च आ रहा है।

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/wolBNgAA

📲 Get Ghazipur News on Whatsapp 💬