पुलिस को झूठी सूचना देकर खुद फंस गए पशु चोर

  |   Meerutnews

खरखौदा। पुलिस को मेरठ-बुलंदशर राष्ट्रीय राजमार्ग पर शनिवार तड़के टाटा पिकअप लूट की सूचना मिली। पुलिस ने शक होने पर गाड़ी मालिक से पूछताछ कर पशु चोर गिरोह का पर्दाफाश करके चार लोगों को जेल भेज दिया। वहीं, पुलिस ने चोरी हुए पशु भी बरामद कर लिए हैं।

लिसाड़ी गेट थाना क्षेत्र के श्यामनगर निवासी शादाब पुत्र नजीर ने शनिवार तड़के पुलिस को लूट की जानकारी दी थी। उसने बताया कि वह अपनी टाटा पिकअप गाड़ी लेकर गांव असौड़ा स्थित पशु पैठ के लिए निकला था। वह सुबह करीब पांच बजे खरखौदा कस्बे से पहले डीएवी डिग्री कॉलेज के सामने पहुंचा। उसने मोड़ पर गति धीमी की तो वहां मौजूद हथियारबंद बदमाशों ने उसे गन प्वाइंट पर ले लिया। बदमाश उसकी गाड़ी में सवार हो गए। बताया कि बदमाशों ने शादाब को गांव लालपुर स्थित एक ढाबे के सामने फेंक दिया। इसके बाद बदमाश गाड़ी लेकर मेरठ की ओर भाग गए थे। लूटी गई गाड़ी पास में ही धान के खेत में फंसी मिली। पुलिस ने शक होनेे पर शादाब से पूछताछ की तो मामला कुछ ओर निकला। उन्होंने बताया कि जलीश पुत्र आकिल निवासी जड़ौदा थाना मंसूरपुर, मुजफ्फरनगर, सुल्तान पुत्र गुलफाम निवासी एक मिनार मस्जिद समर गार्डन लिसाड़ीगेट, अमजद पुत्र बसीरूद्दीन मेवगढ़ी मजीदनगर लिसाड़ी गेट शुक्रवार रात गांव कूड़ी में पशु चोरी करने आए थे। गांव से दो भैंस चोरी करने के बाद वे गाड़ी में लादकर हापुड़ रोड स्थित मीट प्लांट में बेचने जा रहे थे। वे गाडी को गांव मड़ैया, छतरी, गोविंदपुरी एवं पीलपीखेड़ा होते हुए अल्लीपुर निकलना चाहते थे। अंदाजा नहीं होने के कारण वे लोग मड़ैया गांव के रास्ते से कुछ दूर पहले ही मुड़ गए। वह रास्ता आगे जाकर बंद मिला। पशुओं से लदी गाड़ी धान के खेत में फंस गई। उसे छोड़कर तीनों लोग पशुओं को पैदल लेकर जंगल की ओर निकल गए तथा वह गाड़ी के पास में ही रुक गया। पुलिस से बचने के लिए उसने गाड़ी लूट की झूठी सूचना दी। पुलिस ने शनिवार रात में ही सभी आरोपियों को एक-एक करके गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने चोरों की निशानदेही पर गोविंदपुरी-बिजौली मार्ग पर एक गन्ने के खेत में पेड़ से बंधे दोनों पशुओं को बरामद कर लिया। पुलिस ने आरोपियों से रस्से एवं दो चाकू भी बरामद करने का दावा किया है। पुलिस ने दोनों पशुओं को उनके स्वामियों के सुपुर्द कर दिया तथा चारों आरोपियों को जेल भेज दिया है। इस बाबत थाना प्रभारी मनीष बिष्ट का कहना है कि मामले की जांच करने पर सच्चाई सामने आ सकी। इसके बाद चारों आरोपियों को जेल भेजा है।

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/8ZnYygAA

📲 Get Meerut News on Whatsapp 💬