बेघरबार लोग दूसरों के घरों में डाले हैं डेरा

  |   Auraiyanews

अजीतमल (औरैया)। यमुना का जलस्तर तो घटने तो लगा है, लेकिन प्रभावित लोगों की जिंदगी ढर्रे पर आने में अभी वक्त लगेगा। बाढ़ से जिन लोगों के घरों को नुकसान पहुंचा हैं, वे अभी दूसरों के घरों में डेरा डाले हैं। गांव बड़ेरा के अशोक कुमार, सरजूराम, श्यामबाबू, राम किशोर, श्यामबाबू, अखिलेश, राजेंद्र, अवधेश व ज्ञान सिंह समेत एक दर्जन से ज्यादा लोग बेघरबार हो गए हैं।

ग्रामीणों ने बताया कि बाढ़ से उनकी गृहस्थी पूरी तरह से बर्बाद हो गई है। दुखी स्वर में बोले ‘अब हम कहां रहेंगे, लड़के कैसे पढ़िएं।’ अपने क्षतिग्रस्त घर के पास खड़े अशोक कुमार और सरजू राम भी काफी दुखी दिखे। वहीं, गांव में बने शौचालयों में लगभग 25 शौचालय भी बाढ़ की चपेट में आकर बर्बाद हो गए हैं। ग्राम प्रधान के पति इंद्रवीर सिंह ने बताया की दो दिन पहले सीडीओ ने गांव का दौरा किया था। उन्होंने पूर्णतया व आंशिक रूप से बेघर हुए लोगों की सूची तैयार कर उन्हें उपलब्ध कराने के लिए कहा था, जिससे आवास स्वीकृत कराने की कार्रवाई की जा सके। सूची तैयार की जा रही है।...

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/J4tfbwAA

📲 Get Auraiya News on Whatsapp 💬