बाढ़ का पानी उतरने पर दिखा बर्बादी का मंजर

  |   Hamirpurnews

हमीरपुर। यमुना व बेतवा नदियों का बढ़ा जलस्तर रविवार को भी तेजी के साथ घटा। पानी घटने के बाद बाढ़ से जलमग्न हुए मकानों की बर्बादी का मंजर दिखाई देने लगा है। कुछेछा स्थित राठ मोड़, चंदुलीतीर, डिग्गी व अन्य इलाकों में जलमग्न दर्जनों कच्चे मकान जमीदोंज हो चुके हैं। तिल, ज्वार की फसलें बाढ़ का पानी भरा रहने से सड़ गई हैं। रविवार को बारिश होने से राहत केंद्रों के साथ सड़क किनारे डेरा डाले बाढ़ पीड़ितों के लिए किसी मुसीबत से कम नहीं है।

एक सप्ताह में यमुना व बेतवा के कहर से मुख्यालय के पुराना बेतवा घाट, पुराना यमुना घाट, खालेपुरा, कजियाना, डिग्गी, राठ रोड, चंदुलीतीर के अलावा जरैली मडै़या, भोलानाना डेरा, केसरिया डेरा समेत अन्य इलाकों में बाढ़ का कई दिनों तक पानी भरा रहा। शनिवार से नदियों के जलस्तर घटने से लोगों ने राहत ली। रविवार को भी तेजी के साथ दोनों नदियों का जलस्तर घटने का क्रम जारी रहा। शाम चार बजे बेतवा का जलस्तर 102.890 मीटर व यमुना का 103.030 मीटर रिकार्ड किया गया।...

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/3EQEoQAA

📲 Get Hamirpur (UP) News on Whatsapp 💬