मातृभाषा में बढ़ रहा राइटिंग का क्रेज

  |   Jodhpurnews

जोधपुर. एक वो भी जमाना था जब बड़े कल्चर में लोगों को हिंदी बोलने में शर्म आती थी। इंटरनेशनल लेंग्वेज इंग्लिश में बात करना, इंग्लिश नॉवेल, बुक पढऩे में लोग अपनी शान समझते थे, लेकिन अब ऐसा नहीं है। टाइम बदला तो लोगों की सोच भी बदलने लगी। नतीजा यह हुआ कि एक समय युवा पीढ़ी जहां हिंदी लिटरेचर व पोइम्स से दूर होती जा रही थी। अब वहीं युवा पीढ़ी हिंदी लिटरेचर, पोइम्स की दुनिया में न सिर्फ रुचि ले रही है बल्कि अपने कॅरियर को भी इसी दिशा में प्रयास कर रही है। सनसिटी में भी इन दिनों होने वाले साहित्यक इवेंट में हिंदी का प्रचलन जहां बढ़ रहा है वहीं मातृभाषा के प्रति लगाव के चलते वर्तमान में हिंदी लेखक, कवि, कथाकार का कुनबा बढ़ रहा है।...

फोटो - http://v.duta.us/OHbPngAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/RzgV7wAA

📲 Get Jodhpur News on Whatsapp 💬