अनुदान की पात्र नौ गौशालाओं के संचालक अनुदान को तरसे

  |   Bharatpurnews

भरतपुर. गौशालाओं में गोवंश का पालन-पोषण अनुदान पर निर्भर है। अनुदान समय पर आए तो गौशाला संचालकों को संबल मिलता है, लेकिन अभी संचालक तीन माह के अनुदान को तरस रहे हैं।

पशुपालन विभाग ने सर्वे कराकर 03 करोड़ 56 लाख रुपए की डिमांड गोपालन निदेशालय को भेजी है। अब निदेशालय से बजट मिले तब 13 हजार से अधिक गोवंश के चारा-दाने के लिए भुगतान किया जाएगा। ऐसे में नौ गौशालाओं के संचालकों को अप्रेल, मई व जून के अनुदान के लिए तरसना पड़ रहा है।

जिले में विभाग से पंजीकृत 16 गौशालाएं हैं, जिनमें नियम के तहत सर्वे के बाद नौ गौशालाओं को अनुदान के लिए पात्र मानकर 03 करोड़ 56 लाख 69 हजार 400 रुपए की डिमांड निदेशालय को भेजी है। गौरतलब है कि अनुदान की पात्र वे गौशलाएं हैं, जिनमें दो सौ या इससे अधिक गोवंश होने पर अनुदान दिया जाता है।...

फोटो - http://v.duta.us/dG8xQQAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/Oae14wAA

📲 Get Bharatpur News on Whatsapp 💬