गंगा पुल की क्षतिग्रस्त हादसों का सबब बन रही

  |   Hapurnews

गंगा पुल की क्षतिग्रस्त सड़क पर बढ़ा हादसों का खतरा

गढ़मुक्तेश्वर। ब्रजघाट गंगा के पुराने पुल की सड़क की मरम्मत में 20 करोड़ से ज्यादा की रकम खर्च हो चुकी है लेकिन इसके बाद भी सड़क कई जगह से टूट गई है। बृहस्पतिवार को गढ़ कोतवाली में तैनात एक दरोगा क्षतिग्रस्त सड़क पर बाइक अनियंत्रित होकर फिसलने के बाद ट्रक की चपेट में आकर गंभीर रूप से घायल हो गया। जिसे चिकित्सकों ने मेरठ के लिए रेफर कर दिया है।

ब्रजघाट गंगा के पुराने सड़क पुल का निर्माण आजादी के बाद हुआ था। जिसका उद्घाटन देश के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरु ने सन 1962 में किया था। पुल के जर्जर होने पर एनएचएआई ने सन 2012 में इसे आवागमन के लिए पूरी तरह बंद कर सभी वाहनों का आवागमन नए पुल पर डायवर्ट कर दिया था। जिसके बाद एनएचएआई ने साढ़े सात सौ मीटर लंबे पुराने पुल की मरम्मत कराकर 11 मार्च को पुराना पुल वाहनों के आवागमन के लिए खुलवा दिया था। लेकिन मरम्मत होने के बाद पुल की सड़क की हालत खस्ताहाल बनी हुई है। 11 मार्च से अब तक पुराने गंगा पुल की नई बनी सड़क पांच बार उखड़ चुकी है। क्षतिग्रस्त सड़क हादसों का सबब बनी हुई है, लेकिन राहगीरों की सुरक्षा को लेकर एनएचएआई समेत स्थानीय प्रशासन किसी भी तरह सचेत नजर नहीं आ रहा। गढ़ कोतवाली में तैनात दारोगा रुपचंद जनपद अमरोहा के कस्बा गजरौला में रहते हैं। जो बृहस्पतिवार को बाइक से ड्यूटी पर आ रहे थे। पुराने गंगा पुल पर फैली बजरी पर टायर फिसलने से उनकी बाइक अनियंत्रित हो गई, जिससे रुपचंद सड़क पर जा गिरे और पीछे से आ रहे तेज रफ्तार ट्रक ने दरोगा को चपेट में ले लिया। मौके पर मौजूद लोगों ने दारोगा को आनन-फानन में स्थानीय अस्पताल में भर्ती कराया। जहां से चिकित्सकों ने गंभीर हालत में उसे मेरठ के लिए रेफर कर दिया है।...

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/XrmAgQAA

📲 Get Hapur News on Whatsapp 💬