थाल सजाओ आरती उतारो, राह बुहारो फूल बिछाओ, म्हारे सदगुरु पधारे...

  |   Kotanews

कोटा. जिन्होंने अपनी शिनाख्त मिटा कर हमारी पहचान कायम की... खुद मुश्किलों से गुजर कर हमें समाज में खड़ा होना सिखाया... हर फिकर को पीछे छोड़ हमें मुश्किलों पर जीत का परचम लहराने की तरकीब बताई... जीवन रूपी कच्ची मिट्टी को न सिर्फ आकार दिया, बल्कि उसे इस योग्य भी बनाया कि न सिर्फ अपना बल्कि दूसरों का जीवन भी संवार सकें...विभिन्न विधाओं की ऐसी सद्गुरु शख्सियतों का श्रीनाथपुरम स्थिति शिव ज्योति कॉन्वेंट स्कूल में राजस्थान पत्रिका डॉट कॉम और शिव ज्योति कॉन्वेंट स्कूल ने मिलकर गुरुवार को जयगान किया।

श्रीनाथपुरम डी ब्लॉक स्थिति शिवज्योति कन्वेंट स्कूल परिसर में सुबह से ही आवभगत का सिलसिला शुरू हो चुका था। राहें बार-बार बुहारी जा रहीं थी...कंकड़ पत्थर चुनकर उन पर फूल बिछाए जा रहे थे... ज्यों ज्यों घड़ी अपराह्न तीन बजे की ओर जाने लगी त्यों त्यों थाल सजाए जाने लगे... तिलक चंदन, रोली चावल और दीपकों को सजा आरती की तैयारी शुरू हो चुकी थी। हां, बेहद खास मौका था... यूं तो कहने के लिए शिक्षक दिवस था, लेकिन राजस्थान पत्रिका के सरोकारों ने इसे गुरुजनों के यश का जयगान और वंदन करने के सुअवसर में परिवर्तित कर दिया। साहित्य, शिक्षा, संगीत, कला और इतिहास से लेकर शिक्षा के हर क्षेत्र में शिष्यों को पारंगत कर प्रदेश ही नहीं वरन पूरे देश की तरुणाई का मार्गदर्शन करने वाले 55 सदगुरुओं का मेघ की रिमझिम फुहारों के बीच अभिनंदन किया गया।...

फोटो - http://v.duta.us/TEqT_gAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/gdYJ7gEA

📲 Get Kota News on Whatsapp 💬