मवेशियों का उपचार भगवान भरोसे, 8 चिकित्सकों के भरोसे जिले की 282 ग्राम पंचायत

  |   Anuppurnews

अनूपपुर। ज्यों ज्यों मानसून की बौछार धरती को नम कर रही है वैसे वैसे ग्रामीण क्षेत्रों की मवेशियों में बीमारियों ने अपना पैठ गहराता जा रहा है। बारिश के सीजन में होने वाले गलघोंटू, खुरहा, बुखार, संक्रमण सहित अन्य बीमारियां मवेशियों को आसानी से अपनी मौत के मुंह में समाएं जा रही है। गंाव में मवेशी उपचार के बेहतर प्रबंधन नहीं होने के कारण अब मवेशी भी संक्रमण की मार से एक-एक कर दम तोड़ रही है। हालांकि जिला प्रशासन द्वारा सभी स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान करने वाली संस्थाओं से अपने ग्रामीण क्षेत्रोंं में दवाईयों के साथ कर्मचारियों की उपस्थिति बनाए रखने के निर्देश जारी किए हैं। लेकिन आलम यह है कि अब यह निर्देश सिर्फ फौरी आदेश बनकर रह गई है। पशु चिकित्सीय सुविधा के अभाव में स्थानीय किसानों के लिए मवेशियों की मौत पर सिर्फ मातम के सिवाय कुछ नहीं कर रह गया है। आश्चर्य है कि जिले में लगभग ५ लाख ९३ हजार ७५७ पशुधन है। लेकिन इनकी बीमारियों से सुरक्षा के लिए मात्र ८ चिकित्सक मौजूद हैं। २८२ ग्राम पंचायतों में मवेशियों के उपचार के लिए जिले में १६ चिकित्सालय स्थापित किए गए हैं। जहां एक चिकित्सों के भरोसे दो-दो पशु चिकित्सालय संचालित हो रहे हैं। जहां स्वीकृत पदों व गांवों के अनुसार स्टाफों का अभाव बना हुआ है। जबकि अनूपपुर जिले के लिए स्वीकृत २३ पद है, जिसमें १९ पशु चिकित्सक तथा ४ वेटनरी एजक्यूटिव ऑफिसर के पद सम्मिलित है। लेकिन यहां पदस्थ पदाधिकारियों में प्रथम श्रेणी के अधिकारी के स्वीकृत ३ पद में २ भरे एक रिक्त है। वीईओ के ४ स्वीकृत पद में ३ भरे एक रिक्त है। जबकि डॉक्टरों की स्वीकृत १९ पद में ८ भरे ११ रिक्त है। इसके अलावा फील्ड ऑफिसर के स्वीकृत ८६ पदों में मात्र ४२ भरे है शेष रिक्त हैं। ग्रामीणों का कहना है कि व्यवस्थाओं व पदाधिकारियों की कमी में वर्तमान में उपकेन्द्रों मवेशियों का उपचार नहीं हो रहा है। जो फील्ड ऑफिसर हैं वे गांवों की ओर रूख तो करते हैं, लेकिन किसानों के बीमार पशुओं की सेवाएं कम दे पाते हैं। परिणामस्वरूप अधिकांश स्थानों पर पशुओं को उनके उपचार के लिए आसपास के स्वास्थ्य केन्द्रों की ओर ले जाया जाता है। लेकिन ग्रामीणों के पास बीमार मवेशियों को आसपास के स्वास्थ्य केन्द्र तक लाने-ले जाने की सुविधा नहीं होती, जिसमें मवेशी असमय मौत के शिकार हो जाते हैं।...

फोटो - http://v.duta.us/xzoo7wEA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/gxA2ewAA

📲 Get Anuppur News on Whatsapp 💬