रांची : देसी को टक्कर दे रहा क्रोइलर चिकन

  |   Ranchinews

रांची : देसी और ब्रॉयलर चिकन ही नहीं, अब क्रोइलर चिकेन भी खायें. देसी को क्रोइलर चिकेन टक्कर देने लगा है. सखी मंडल की महिलाओं ने रांची की चिकन दुकानों में इसकी सप्लाई शुरू कर दी है. क्रोइलर चिकन के कई फायदे हैं. यह देसी मुर्गी की तरह ही प्राकृतिक तौर पर रहनेवाला रंगीन नस्ल का है. यह घर की रसोई के अपशिष्ट एवं कुछ रेडीमेड पौष्टिक आहार खाता है.

वसा की मात्रा कम पायी जाती है : इस प्रजाति के आहार में किसी तरह के एंटीबायोटिक्स एवं ग्रोथ प्रमोटर्स की जरूरत नहीं पड़ती है. यह पूरी तरह से प्राकृतिक एवं सुरक्षित है. इसमें वसा की मात्रा भी बहुत कम पायी जाती है. इसके अधिक सेवन से भी किसी तरह का नुकसान नहीं होता है़ इसमें प्रोटीन, कैल्शियम एवं विटामिन तुलनात्मक रूप से ज्यादा होते हैं. इसके पैर अपेक्षाकृत छोटे एवं मोटे होते हैं....

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/yAfckwAA

📲 Get Ranchi News on Whatsapp 💬