शिक्षक दिवस के दिन शिक्षकों ने नहीं रखा इन बातों का ध्यान, अतिथियों ने कहा ये अपमान है

  |   Vidishanews

विदिशा। समय की कीमत करना और अनुशासन का पाठ पढ़ाने वाले शिक्षकों के मुख्य कार्यक्रम में समय की पाबंदी दिखाई नहीं दी। शिक्षक दिवस t eachers day पर लैंडमार्क गार्डन में शिक्षा विभाग ने सम्मान कार्यक्रम का आयोजन किया। सुबह 11 बजे से शुरू होने वाला यह कार्यक्रम 12.30 बजे शुरू हुआ। करीब एक घंटे अतिथियों के भाषण चलते रहे। इसके बाद शिक्षकों के सम्मान की बारी आई। इस ढाई घंटे के इंतजार के कारण कुछ रिटायर्ड शिक्षकों में नाराजी भी देखी गई।

समय बिताया जा रहा था

मालूम हो इस आयोजन में रिटायर्ड शिक्षकों सहित विभिन्न क्षेत्रों में उत्कृष्ट कार्य करने, उत्कृष्ट परीक्षा परिणाम देने वाले शिक्षक-शिक्षिकाओं व प्राचार्यों को आमंत्रित किया गया था। कार्यक्रम 11 बजे से शुरू होना था, लेकिन अतिथियों के इंतजार में एक कर्मचारी द्वारा देशभक्ति गीत प्रस्तुत कर समय बिताया जा रहा था। दोपहर करीब 12.30 बजे कलेक्टर कौशलेंद्र विक्रमसिंह कार्यक्रम में आए और शिक्षकों को शिक्षक दिवस की शुभकामनाएं दी एवं अच्छा व उत्कृष्ट कार्य के लिए करने के लिए प्रेरित किया।इस दौरान उन्होंने तीन शिक्षकों का सम्मान किया और अन्य कार्य होने के कारण वे दस मिनट का समय ही कार्यक्रम को दे पाए।...

फोटो - http://v.duta.us/3qdPUQAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/6IKovAAA

📲 Get Vidisha News on Whatsapp 💬