हत्या के दोषी तीन नेपालियों को उम्रकैद, जुर्माना भी किया

  |   Shimlanews

हमीरपुर। अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश हमीरपुर की अदालत ने हत्या के मामले में दोषी तीन नेपालियों को उम्रकैद और प्रत्येक को बीस हज़ार रुपये जुर्माने की सज़ा सुनाई है। यह हत्याकांड नादौन पुलिस स्टेशन के तहत गांव जोलसप्पड़ में मार्चए 2016 में हुआा था। जिसमें रिंकु एवं अश्वनी( मामा-भांजा) को गंभीर रूप से घायल कर नेपाली प्रवासियों ने मौत के घाट उतार दिया था। इस केस की पैरवी न्यायवादी सुदीप सिंह ने की है। जबकि मामले की छानबीन इंस्पेक्टर मोहिंद्र सिंह के नेतृत्व में पुलिस टीम ने की थी।

जानकारी के मुताबिक मार्च 2016 में होली के मौक़े पर विनय, पंकज, अश्वनी, रिंकु सुभाष और अमित कुमार खेतों में बैठे हुए थे। इसी दौरान 3.4 नेपाली वहां पहुंचे और भांग मलने लग पड़े। उनके साथ रिंकु और सुभाष की बहस हो गई। सभी नेपाली बहस के बाद अपने डेरे में चले गए लेकिन करीब 7.30 बजे शाम डंडों, दराट और कुल्हाड़ी के साथ 7. 8 नेपाली फिर वहां पहुंचे तथा इन पर हमला कर दिया। नेपालियों के शिकंजे में रिंकु और अश्वनी फंस गए जिन्हें उन्होंने गंभीर रूप से घायल कर दिया। साथियों ने रिंकु और अश्वनी को अस्पताल पहुंचाया। जहां डाक्टरों ने रिंकु को मृत घोषित कर दिया। जबकि अश्वनी को चंडीगढ़ रेफ़र कर दिया। इसी बीच बंगाणा के पास रास्ते में अश्वनी की भी मौत हो गई। नादौन थाने में एफ़आईआर 2016 दर्ज कर इंस्पेक्टर मोहिंद्र सिंह के नेतृत्व में आरोपियों को पकड़ लिया गया। पूरी छानबीन के बाद पुलिस ने कोर्ट में चालान पेश किया। वीरवार को दिए फैसले में अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश नरेश कुमार की अदालत ने तीनों नेपाली मूल के आरोपियों को दोषी मानते हुए उम्र क़ैद तथा प्रत्येक दोषी को बीस हज़ार रुपये जुर्माना भरने की सजा सुनाई है। आरोपी कोल्हापुर नेपाल क्षेत्र के हैं तथा वारदात के वक्त नाबालिग थे।

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/VO1U-gAA

📲 Get Shimla News on Whatsapp 💬