👉अब पाकिस्तान में भी उठी तीन 🇵🇰तलाक को दंडनीय अपराध बनाने की👤 मांग

  |   Hindiworldnews

पाकिस्तान की एक इस्लामी सलाहकार समिति ने सरकार से कहा है कि तीन तलाक या तुरंत तलाक की प्रथा को पाकिस्तान में भी दंडनीय अपराध माना जाना चाहिए और इसके लिए सख्त कानून बनाने की जरूरत है। भारत में तीन तलाक की प्रथा को दंडनीय अपराध बनाने के कुछ हफ्ते बाद अब पाकिस्तान में भी इसके खिलाफ आवाज उठने लगी है।

भारत में नए कानून के तहत तलाक-ए-बिद्दत गैर कानूनी और तुरंत तीन तलाक देने वाले को पुलिस बिना वारंट गिरफ्तार कर सकती है। इसके अंतर्गत तीन साल तक की सजा का प्रावधान है। यह संज्ञेय तभी होगा जब या तो खुद महिला शिकायत करे या फिर उसका कोई सगा-संबंधी।

द एक्सप्रेस ट्रिब्यून के मुताबिक, पाकिस्तान की काउंसिल ऑफ इस्लामिक आइडियोलॉजी ने सिफारिश की है कि तीन तलाक को इस्लामिक राष्ट्र में दंडनीय अपराध माना जाना चाहिए। समिति ने कहा कि इस्लाम में तलाक के कई तरीके हैं। इनमें एहसान, हसन और तलाक-ए-बिद्दत (तीन तलाक) शामिल हैं। एहसान और हसन से पीछे हटा जा सकता है। वहीं, तलाक-ए-बिद्दत से मुकरने की गुंजाइश नहीं है।

यहां पढे़ं पूरी खबर -http://v.duta.us/JAHv9wAA

📲 Get विश्व समाचार on Whatsapp 💬