👉इसरो चीफ ने चंद्रयान-2 मिशन को बताया 95 फीसदी👍 सफल

  |   Hindielections / समाचार

चंद्रयान-2 के लैंडर 'विक्रम' का बीती रात चांद पर उतरते समय भले ही इसरो के स्पेस स्टेशन से संपर्क टूट गया, लेकिन इसरो चीफ के सिवन ने बताया चंद्रयान-2 मिशन 95 फ़ीसदी सफल रहा है। चंद्रयान-2 की स्थिति के बारे में भले ही कोई जानकारी नहीं है कि यह दुर्घटनाग्रस्त हो गया या उसका संपर्क टूट गया, लेकिन 978 करोड़ रुपये लागत वाला चंद्रयान-2 मिशन का सबकुछ खत्म नहीं हुआ है।

शनिवार को डीडी न्यूज को दिए एक इंटरव्यू में इसरो प्रमुख के सिवन ने चंद्रयान-2 मून मिशन को 95 फीसदी सफल बताया है। उन्होंने कहा कि, विक्रम लैंडर से दोबारा संपर्क बनाने के लिए प्रयास जारी है। उन्होंने यह भी बताया कि, चंद्रयान-2 का ऑर्बिटर 7.5 साल तक काम कर सकता है। वहीं उन्होंने इसरो के भविष्य के मिशन को लेकर जानकारी देते हुए बताया कि, गगनयान सहित इसरो के सभी मिशन निर्धारित समय पर पूरे होंगे।

इससे पहले इसरो के पूर्व अध्यक्ष जी. माधवन नायर ने शनिवार को कहा था कि चंद्रयान-2 अपने मिशन के 95 प्रतिशत उद्देश्यों में सफल रहा है। अंतरिक्ष विभाग के पूर्व सचिव एवं अंतरिक्ष आयोग के पूर्व अध्यक्ष नायर ने कहा कि ऑर्बिटर सही है चंद्रमा की कक्षा में सामान्य रूप से काम कर रहा है।

वहीं चंद्रयान-2 के चंद्रमा की सतह पर सफलतापूर्वक उतरने सहित कई अन्य उद्देश्य थे। नायर ने कहा कि, मुझे लगता है कि हमें ज्यादा चिंता करने की जरूरत नहीं है... मैं कहूंगा कि मिशन के 95 प्रतिशत से अधिक उद्देश्य पूरे हुए हैं।

वहीं इसरो के एक अधिकारी ने नाम ना जाहिर करने के अनुरोध पर बताया कि, मिशन का सिर्फ पांच प्रतिशत -लैंडर विक्रम और प्रज्ञान रोवर- नुकसान हुआ है, जबकि बाकी 95 प्रतिशत -चंद्रयान-2 ऑर्बिटर- अभी भी चंद्रमा का सफलतापूर्वक चक्कर काट रहा है। एक साल मिशन अवधि वाला ऑर्बिटर चंद्रमा की कई तस्वीरें लेकर इसरो को भेज सकता है। अधिकारी ने कहा कि ऑर्बिटर लैंडर की तस्वीरें भी लेकर भेज सकता है, जिससे उसकी स्थिति के बारे में पता चल सकता है।

यहां पढ़ें पूरी खबर-http://v.duta.us/rBoQ1wAA

📲 Get समाचार on Whatsapp 💬