जीएमडीए रैपिड मेट्रो लेने तो तैयार, 3 हजार करोड़ का घाटा नहीं, सोमवार को हाईकोर्ट में सुनवाई

  |   Delhinews

रैपिड मेट्रो की बागडोर संभालने के लिए गुरुग्राम महानगर विकास प्राधिकरण (जीएमडीए) ने कमर कस ली, मगर इसके आड़े रैपिड मेट्रो का वर्तमान करीब तीन हजार करोड़ रुपये का घाटा आ रहा है।

जीएमडीए अधिकारियों की मानें तो आईएल एंड एफएस कंपनी रैपिड मेट्रो की आड़ में अपना करीब 3 हजार करोड़ का घाटा भी सरकार को सौंपना चाहता है जिसके लिए वह तैयार नहीं है। जीएमडीए की निगाहें पंजाब एवं हरियाणा उच्च न्यायालय पर है। न्यायालय के फैसले के अनुसार ही आगे की कार्रवाई की जाएगी।

आईएल एंड एफएस इंफ्रास्ट्रक्चर कंपनी ने हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण से इसका करार कर नवंबर 2013 से रैपिड मेट्रो का संचालन शुरू किया गया था। पहले चरण में सिकंदरपुर से शंकर चौक तक 5.1 किमी के ट्रैक पर रैपिड मेट्रो का संचालन शुरू किया गया था। दूसरे चरण में इसका विस्तार करते हुए सिकंदरपुर से सेक्टर-56 तक किया गया था।...

फोटो - http://v.duta.us/b9wRqgAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/BSJM8AAA

📲 Get दिल्ली समाचार on Whatsapp 💬