डाक बंगले में लिया गुलाबराव से प्रतिशोध

  |   Kullunews

कुल्लू। एक्टिव मोनाल कल्चरल एसोसिएशन कुल्लू की ओर से एवं प्रदेश भाषा एवं संस्कृति विभाग के संयुक्त तत्वावधान में कलाकेंद्र कुल्लू में राष्ट्रीय नाट्य महोत्सव चल रहा है। इसकी दूसरी संध्या वीरवार को अनुकृति रंगमंडल कानपुर उत्तर प्रदेश के कलाकारों ने नाटक पुुरुष का सफल मंचन किया। मूल रूप से मराठी के जयवंत दलवी की ओर से लिखे इस नाटक का हिंदी अनुवाद सुधाकर करकरे का था। इसमें बताया कि एक लड़की कैसे प्रतिशोध लेती है।

अण्णा साहब आप्टे एक आदर्श शिक्षक हैं। उनके अपनी पत्नी तारा के साथ वैचारिक मतभेद होते हैं। लेकिन फिर भी वह उनका साथ देती है। अण्णा की बेटी अंबिका स्कूल में पढ़ाती है, उसका मित्र सिद्धार्थ दलितों के हक की लड़ाई लड़ता है। अंबिका की एक अन्य मित्र मथुरा अण्णा व तारा को कई गंभीर मुद्दों पर सलाह देती रहती है। तभी आप्टे परिवार के शांत जीवन में बवंडर की तरह दाखिल होता है बाहुबली राजनीतिज्ञ गुलाबराव जाधव। अंबिका गुलाबराव के अनैतिक कार्यों का विरोध करती है। अंबिका को शिकस्त देने के लिए गुलाबराव कुटिल चाल चलता है। एक दिन छल से वह अंबिका को डाक बंगले बुलवाता है और उसके साथ दुष्कर्म करता है। मामला अदालत तक पहुंचता है। लेकिन सत्ता व संपत्ति की ताकत के चलते फैसला गुलाबराव के पक्ष में होता है। इससे अंबिका मन की गहराई तक आहत होती है। तारा को तो इतना गहरा सदमा लगता है कि वह खुद ही मौत को गले लगा लेती है। मुश्किलों के इस दौर में सिद्धार्थ का रवैया देख अंबिका उसे अलविदा कह देती है। मथुरा अंत तक आप्टे परिवार का साथ देती है। इस बीच गुलाबराव को चुनाव में टिकट मिल जाता है। वह अण्णा साहब के घर जाता है और अंबिका से क्षमा मांगते हुए चुनाव में मदद की पेशकश करता है। गुलाबराव बातचीत के लिए एक बार फिर अंबिका को डाक बंगले आने को कहता है। वह गुलाबराव से डाक बंगले आने का वादा करती है और फिर डाक बंगले पहुंच कर अंबिका गुलाबराव से प्रतिशोध लेती है। डॉ. ओमेंद्र कुमार तथा कृष्णा सक्सेना की प्रकाश परिकल्पना से दिशा वर्मा की ओर से निर्देशित इस नाटक में जौली घोष, दीपिका सिंह, सुरेश प्रसाद श्रीवास्तव, शुभी मेहरोत्रा, सिरीब बी सिंहा, सम्राट यादव, महेंद्र धूरिया, कमल गौतम, प्रमोद शर्मा, मनोहर सुखेजा, विजय भास्कर, अंकिता शुक्ला, आकाश सिंह, धीरेंद्र गौतम, आरती शुक्ला, संजय शर्मा, महेश जायसवाल तथा कुशल गुप्ता ने शानदार मंचन किया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि रहे डॉ. निरंजन देव शर्मा ने मेहमान कलाकारों को कुल्लवी परंपरा से सम्मानित किया।

फोटो - http://v.duta.us/rXUeVAAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/cjgHmAAA

📲 Get Kullu News on Whatsapp 💬