नमक रोटी मामले में डैमेज कंट्रोल मे जुटा राजस्व विभाग

  |   Mirzapurnews

अहरौरा(मिर्जापुर)। नमक रोटी प्रकरण में खामियां उजागर करने वाले पत्रकार के विरुद्ध दर्ज कराए गए मुकदमे को लेकर ग्रामीणों में आक्रोश है। राजस्व विभाग तथा बीईओ सहित 15 सदस्यीय टीम को शुक्रवार सुबह गांव में भेज कर डैमेज कंट्रोल का प्रयास किया गया। जिसके चलते 32 बच्चे विद्यालय पहुंचाए जा सके। कुल 95 बच्चों मे 63 बच्चों के अभिभावकों ने अपने बच्चों को स्कूल भेजने से ही इंकार कर दिया है। उनकी जिद है कि जब तक गलत तरीके से दर्ज कराए गए मुकदमे वापस नहीं लिए जाएंगे तब तक स्थिति सामान्य होना संभव नहीं है ।

प्राथमिक विद्यालय सिऊर में गुरुवार को 95 बच्चों में से मात्र एक बच्चा पढ़ने आया। शेष बच्चों के विद्यालय में न आने से शिक्षा विभाग के अधिकारियों को चिंता सताने लगी। गुरुवार की दोपहर बीईओ ने सिऊर गांव में पहुंच कर अभिभावकों से बच्चों को स्कूल भेजने की अपील की थी। बच्चों के अभिभावकों ने खंड शिक्षा अधिकारी को खूब खरी खोटी सुनाई और चेताया कि जब तक कथित प्रधान प्रतिनिधि राजकुमार पाल और पत्रकार के खिलाफ मुकदमा वापस नहीं होगा तब तक बच्चे स्कूल नहीं जाएंगे। बीईओ के निराश लौटने पर गुरुवार की शाम एसडीएम चुनार भी सिऊर गांव में पहुंचे और उन्होंने अभिभावकों को समझाने का प्रयास भी किया लेकिन कोई बात नहीं बनी तो शुक्रवार की अहले सुबह डैमेज कंट्रोल करने के लिए नायब तहसीलदार नटवर लाल राजस्व टीम के साथ शिउर गांव में पहुंच गए। इस दौरान बीईओ प्रदीप सिंह भी अपनी टीम लेकर विद्यालय खुलने के समय से पूर्व ही पहुंच गए। शियुर गांव में दोनों टीमों ने अलग अलग दिशा में जाकर अभिभावकों को समझाने का प्रयास किया ताकि बच्चे विद्यालय में पढ़ने आ सके और स्थिति पूर्व की भांति सामान्य हो जाएं परन्तु मान मनावन के बाद भी मात्र 32 बच्चे स्कूल पहुंचाए जा सके। इस प्रयास मे डीसी निर्माण अजय श्रीवास्तव, डीसी बालिका रमेश राय, लेखपाल विनोद यादव, अरविंद मिश्रा, सुरेश सहित अन्य विभागीय कर्मचारी शामिल रहे।...

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/9cPq3AAA

📲 Get Mirzapur News on Whatsapp 💬