पर्यूषण पर्व पर श्रद्धालुओं ने की उत्तम शौच धर्म की पूजा

  |   Etahnews

एटा। पर्यूषण पर्व के अंतर्गत शुक्रवार को श्रद्धालुओं ने उत्तम शौच धर्म की पूजा की। इसी क्रम में श्रावकों ने पीत वस्त्र धारण कर जैन धर्म के नौवें तीर्थंकर भगवान पुष्पदंतनाथ को निर्वाण लाड़ू समर्पित किया।

पुरानी बस्ती स्थित बड़े जैन मंदिर में मुनि श्री विश्रुत सागर जी महाराज ने कहा कि शौच अर्थात पवित्र हृदय। संतोष का नाम शौच है। उत्तम शौच हमें सुखी बनाता है और जीवन में तृप्ति का पाठ पढ़ाता है। उन्होंने कहा कि ‘लोभ पाप का बाप बखाना’ अर्थात चारों कषायों के साथ लोभ पाप का बाप है। शाम को जैन मंदिरों में सांस्कृतिक प्रतियोगिताएं आयोजित की गईं।...

फोटो - http://v.duta.us/IuCnQQEA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/PMb6ngAA

📲 Get Etah News on Whatsapp 💬