प्रसव, अल्ट्रासाउंड के लिए जा रहे 60 किमी दूर

  |   Kullunews

बंजार (कुल्लू)। तीन विधानसभा क्षेत्रों बंजार, सराज, आनी की सीमावर्ती 50 से अधिक पंचायतों की लाखों की आबादी की नब्ज टटोलने के लिए महज तीन डॉक्टर हैं। बंजार अस्पताल में लंबे समय से तीन चिकित्सक ही सेवाएं दे रहे हैं। इसके अलावा दो डॉक्टरों के पद खाली चल रहे हैं। अस्पताल में अल्ट्रासाउंड मशीन धूल फांक रही है। लोगों को अल्ट्रासाउंड करवाने के लिए 50 से 60 किलोमीटर दूर कुल्लू जाना पड़ रहा है।

स्त्री रोग विशेषज्ञ नहीं होने से गर्भवती महिलाएं भी कुल्लू और मंडी जाने के लिए मजबूर हैं।

58 सालों में 4 चरणों में स्तरोन्नत हो चुके बंजार अस्पताल की हालत आज भी वर्ष 1960 जैसी है। अस्पताल मात्र 20 बैड के सहारे चल रहा है। बंजार अस्पताल में विशेषज्ञ चिकित्सक, अल्ट्रासाउंड और गायनी, नेत्र जांच के लिए विशेषज्ञ डॉक्टर नहीं है। ग्रामीण क्षेत्रों की महिलाओं को प्रसव के लिए कुल्लू या मंडी जाना पड़ता है। कई महिलाओं को मजबूरन दूरदराज के निजी अस्पतालों में प्रसव करवाना पड़ता है। अस्पताल में 45 लाख लागत से आई टैली मेडिसिन मशीन धूल फांक रही है। 1962 में बनी सिविल डिस्पेंसरी की इमारत के 6-6 बैडों वाले तीन वार्डों में महिला, पुरुष व शिशु वार्ड में उपचार चल रहा है। हालांकि पूर्व कांग्रेस सरकार के कैबिनेट मंत्री स्व. कर्ण सिंह ने 2013 में 100 बैड की क्षमता वाले अस्पताल की नई इमारत का मामला विधानसभा सत्र में प्रमुखता से उठाया। नतीजतन 25 अप्रैल 2017 को लोक निर्माण विभाग मंडल बंजार ने 15 करोड़ 58 लाख की लागत से बनने वाले 6 मंजिला भवन के टेंडर अवार्ड किए। लेकिन इसका काम बहुत धीमा चल रहा है। उधर, बीएमओ रमेश चंद शर्मा ने कहा कि वर्तमान में बंजार में तीन डॉक्टर सेवाएं दे रहे हैं। रिक्त पदों को लेकर समय-समय पर उच्चाधिकारियों को अवगत करवाया जाता है।...

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/mcjfFwAA

📲 Get Kullu News on Whatsapp 💬