यहां मरीजों से ज्यादा खराब है एंबुलेंस की हालत, जान बचाने से पहले स्वास्थ्य विभाग की बेरूखी से हो गए हैं कंडम

  |   Bemetaranews

बेमेतरा. जिले के शासकीय अस्पतालों में आपातकालीन स्थिति में गंभीर घायलों व मरीजों को इलाज के लिए घर से अस्पताल पहुंचाने के लिए एम्बुलेंस की सुविधा दी गई है। लेकिन जिन एम्बुलेंस को मरीजों को लाने ले जाने रखा गया है, वे बीमार हैं। ग्रामीण अंचलों में आपातकालीन स्थिति में समय पर इलाज नहीं मिलने के चलते कई मरीजों को अपनी जान गंवानी पड़ी है। वहीं गरीब तबके के लोगों को आपात स्थिति में घायलों व गंभीर बीमारों को इलाज के लिए लाने ले जाने के लिए बड़ी रकम देनी पड़ रही है।

कंडम हो गए हैं एंबुलेंस

आपात स्थिति में घायलों को अस्पताल तक पहुंचाने के लिए सभी शासकीय अस्पतालों को मिलाकर कुल 7 संजीवनी वाहन उपलब्ध हैं, जिनमें से 2 कंडम हो चुके हैं। वहीं 2 वाहन रिपेयरिंग के लिए गए हैं। वर्तमान में 3 संजीवनी वाहन कार्य कर रहे हैं। 7 वाहनों के स्थान पर 3 कार्यरत हैं। जिले में 10 महतारी 102 वाहन उपलब्ध है, उनकी स्थिति कुछ हद तक ठीक है। वहीं सुदूर इलाके में स्वास्थ्य सेवाओं को बहाल करने के साथ लोगों को आपात स्थिति में स्वास्थ्य केंद्र तक लाने के लिए वाहन सेवा के नाम पर जिले में शासकीय मद से जारी एम्बुलेस व अनुबंध के आधार पर संचालित संजीवनी, महतारी वाहन की संख्या आवश्यकता के अनुसार कम है।...

फोटो - http://v.duta.us/SYr8mwAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/1_VBEAAA

📲 Get Bemetaranews on Whatsapp 💬