राष्ट्रीय रामजार्ग पर कट के लिए किसान लामबंद

  |   Meerutnews

खरखौदा। एनएचएआई ने कैली से हापुड़ तक के बाईपास के बीच में गांव फकरपुर कबट्टा एवं कैली में कट के लिए किसान लामबंद हो गए हैं। जिसको लेकर ग्रामीणों ने आहूत बैठक में शनिवार से अश्चितकालीन धरने की चेतावनी दी है।

मेरठ से बुलंदशहर तक बनाए जा रहे राष्ट्रीय राजमार्ग पर मेरठ से हापुड़ तक करीब 90 प्रतिशत कार्य पूरा हो गया है। राजमार्ग निर्माण से क्षेत्र के लोगों को कई परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। कैली से हापुड़ तक बनाए जा रहे बाईपास पर पड़ने वाले गांव फकरपुर कबट्टा के लिए ग्रामीणों का कहना है कि उनका मुख्य रास्ता गांव कैली से होकर जाता है। कैली में ग्रामीण खरीदारी करने आते हैं। पहले बाईपास पर एनएचएआई ने कट देनेे का वादा किया था लेकिन बाद में मिट्टी डालकर रास्ता बंद कर दिया। ग्रामीणों का कहना है कि अब एनएचएआई राजमार्ग के दोनों ओर स्थायी बेरिकेडिंग भी कर रही है। यह रास्ता गांव कबट्टा, बवनपुरा एवं अतराड़ा के लिए जाता है। ग्रामीणों की मांग है कि इस रास्ते पर कट दिया जाना चाहिए। जिसको लेकर शुक्रवार का गांव कबट्टा में पवन चौधरी के आवास पर बैठक हुई। जिसमें ग्रामीणों ने राजमार्ग पर कट के अतिरिक्त निर्माण कंपनी के डंपरों ने गांव की सड़क तोड़ दी है। कंपनी उस रोड का भी निर्माण करें। ग्रामीणों ने चेतावनी दी कि शनिवार से धरना दिया जाएगा। यहां से डंपरों को नहीं निकलने दिया जाएगा। वहीं, गांव कैली निवासी किसानों ने बताया कि गांव कैली निवासी किसानों की कई सौ एकड़ कृषि भूमि दूसरी तरफ है। एनएचएआई ने इस रास्ते पर न तो कट ही दिया है और न ही राष्ट्रीय राजमार्ग के दोनों ओर सर्विस रोड दी जा रही है। अब किसानों को अपने खेतों में जाने के लिए करीब आठ किलोमीटर की दूरी तय करनी पड़ रही है। कैली निवासी ग्रामीणों ने अपनी मांगों को लेकर जल्द ही अनिश्चितकालीन धरने की चेतावनी दी है।...

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/X9ljvwAA

📲 Get Meerut News on Whatsapp 💬