संजेश ने राजू को फोन कर बुलाया था महाराजपुर, मौत के बाद गढ़ी कहानी और नपा कर्मी राजू को बताया अपना ड्राइवर

  |   Chhatarpurnews

छतरपुर। महाराजपुर में हुई गोली कांड के मामले में संजेश नायक की भूमिका संदेह के घेरे में है। संजेश नायक द्वारा मृतक को अपने चालक बताया जा रहा है। लेकिन वह चालक नहीं बल्कि उसके अंडर में नगर पालिका कर्मचारी था और इसी का फायदा उठाते हुए विवाद में संजेश नायक ने राजू को आगे किया था। जिससे उसकी मौत हो गई। वहीं घटना के बाद जिला अस्पताल एक्सरे में गोली फंसी होने की पुष्टि की गई। लेकिन पीएम के दौरान गोली नहीं मिली। जिससे मृतक के परिजन आक्रोशित हो गए और तीन बाद एक्सरे और तीन बाद पीएम कराया गया। फिर भी गोली नहीं मिलने पर पुलिस द्वारा परिजनों को समझाइस देकर देर शात तक घर भेजा गया। जानकारी के अनुसार बुधवार को रात में महाराजपुर थाना क्षेत्र के पुराना बाजार में हुई घटना में मृतक राजू छतरपुर नगर पालिका का कर्मचारी था। जिसे संजेश ने विवाद की बात कह कर उसे महाराजपुर बुलाया था और विवाद के दौरान गोली लगने से मौत हो गइ थी। जिसके बाद संजेश नायक द्वारा राजू को अपनी कार का चालक बताया जा रहा है। लेकिन वह संजेश के चालक नहीं बल्कि संजेश के अंडर में नगर पालिका में कार्य कर था और इसी का फायदा उठाकर संजेश ने उसे अपने साथ महाराजपुर द्वारा घटना को लेकर मृतक के छोटे भाई विनोद साहू ने बताया कि महाराजपुर में लड़ाई हो गई है। चलना है जिसपर राजू बाइक लेकर घर से निकला और फिर संजेश नायक के साथ महाराजपुर गए थे। करीब एक घंटे बाद फोन आया कि राजू को गोली लग गई है। गौरतलब है कि बुधवार की रात महाराजपुर के पुराना बाजार में जमीन को लेकर चल रहे विवाद को लेकर नगर पालिका छतरपुर में सफाई निरीक्षक संजेश नायक ने अपने परिवार के चचेरे भाई अश्विनी के घर पहुंचकर बवाल किया था और फायर किए थे। जिसपर अश्विनी ने भी फायर किया जो संजेश के साथी राजू को लग गई जिससे उसकी मौत हो गई थी।...

फोटो - http://v.duta.us/jVEV4wAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/711gXQAA

📲 Get Chhatarpur News on Whatsapp 💬